भैय्या दूज 2020, तिलक का समय,कथा |Bhaiyya duj tilak ka samay,katha

भैय्या दूज 2020

भैय्या दूज रक्षाबंधन पर्व के समान भैय्या दूज पर्व कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है| इस दिन पर, बहनें अपने भाइयों को टीका करके, उनके लम्बी और खुशहाल जीवन की प्रार्थना करती हैं। भाई अपनी बहनों को उपहार प्रदान करते हैं।

भैय्या दूज को भाऊ बीज, भाई दूज, भात्र द्वितीया और भतरु द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है। भाई दूज का पर्व भाई बहन के रिश्ते पर आधारित पर्व है, भाई दूज दीपावली के दो दिन बाद आने वाला एक ऐसा उत्सव है, जो भाई के प्रति बहन के अगाध प्रेम और स्नेह को अभिव्यक्त करता है| इस दिन बहनें अपने भाईयों की खुशहाली के लिए कामना करती हैं|

https://livecultureofindia.com/भैय्या-दूज-तिलक-का-समयकथा-bhai/

आप इन्हें भी पढ़ सकते हैं और वीडियो देखने के लिए नीचे क्लिक करें

पहाड़ों की खुबसूरत इगास बग्वाल  दिवाली विडियो देखें

सावन शिवरात्रि 2020,शुभ मुहूर्त में करें शिवजी का महा अभिषेक, होंगे भोले

नारियल की पूजा क्यों की जाती और पोराणिक कथा क्या है जाने,

 

भैय्या दूज तिलक का समय

16 नवंबर

भाई दूज तिथि – सोमवार, 16 नवंबर 2020

भाई दूज तिलक मुहूर्त – 13:10 से 15:17 बजे तक (16 नवंबर 2020)

द्वितीय तिथि प्रारंभ – 07:05 बजे से (16 नवंबर 2020)

द्वितीय तिथि समाप्त – 03:56 बजे तक (17 नवंबर 2020)

भैय्या दूज की कथा 
छाया भगवान सूर्यदेव जिनकी दो संतान हुई यमराज तथा यमुना. यमुना अपने भाई यमराज से बहुत स्नेह करती थी. वह उनसे सदा यह निवेदन करती थी वे उनके घर आकर भोजन करें. लेकिन यमराज अपने काम में व्यस्त रहने के कारण यमुना की बात को टाल जाते थे।

एक बार कार्तिक शुक्ल द्वितीया को यमुना ने अपने भाई यमराज को भोजन करने के लिए बुलाया तो यमराज मना न कर सके और बहन के घर चल पड़े। रास्ते में यमराज ने नरक में रहनेवाले जीवों को मुक्त कर दिया। भाई को देखते ही यमुना ने बहुत हर्षित हुई और भाई का स्वागत सत्कार किया।

यमुना के प्रेम भरा भोजन ग्रहण करने के बाद प्रसन्न होकर यमराज ने बहन से कुछ मांगने को कहा। यमुना ने उनसे मांगा कि- आप प्रतिवर्ष इस दिन मेरे यहां भोजन करने आएंगे और इस दिन जो भाई अपनी बहन से मिलेगा और बहन अपने भाई को टीका करके भोजन कराएगी उसे आपका डर न रहे।

यमराज ने यमुना की बात मानते हुए तथास्तु कहा और यमलोक चले गए। तभी से  यह मान्यता चली आ रही है कि कार्तिक शुक्ल द्वितीय को जो भाई अपनी बहन का आतिथ्य स्वीकार करते हैं उन्हें यमराज का भय नहीं रहता।

 

Leave a Reply