रक्षाबंधन अगस्त 2020 पूजा-विधि,पर्व का मुहूर्त | Rakshaabandhan

 रक्षाबंधन  

रक्षाबंधन का त्योहार भाई-बहन के अटूट रिश्ते को दर्शाता है। रक्षाबंधन का त्योहार सदियों से चला आ रहा है। यह पर्व भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक भी है। रक्षाबंधन के दिन बहनें अपने भाई की कलाई में रक्षा सूत्र बांधती हैं। हिंदूओं के लिए इस त्योहार का विशेष महत्व होता है।

रक्षाबंधन का त्यौहार प्रतिवर्ष श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाते हैं; इसलिए इसे राखी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। यह पर्व भाई-बहन के प्रेम का उत्सव है। इस दिन बहनें भाइयों की समृद्धि के लिए उनकी कलाई पर रंग-बिरंगी राखियाँ बांधती हैं, वहीं भाई बहनों को उनकी रक्षा का वचन देते हैं। कुछ क्षेत्रों में इस पर्व को राखरी भी कहते हैं। यह सबसे बड़े हिन्दू त्योहारों में से एक है।

आइए जानते हैं इस विधि से भाई की कलाई में बांधें राखी

रक्षाबंधन के दिन सुबह-सुबह उठकर स्नान करें और शुद्ध कपड़े पहनें। इसके बाद घर को साफ करें और चावल के आटे का चौक पूरकर मिट्टी के छोटे से घड़े की स्थापना करें। चावल, कच्चे सूत का कपड़ा, सरसों, रोली को एकसाथ मिलाएं। फिर पूजा की थाली तैयार कर दीप जलाएं। थाली में मिठाई रखें। इसके बाद भाई को पीढ़े पर बिठाएं। अगर पीढ़ा आम की लकड़ी का बना हो तो सर्वश्रेष्ठ है।

https://livecultureofindia.com/रक्षाबंधन/ ‎

रक्षा सूत्र बांधते वक्त भाई को पूर्व दिशा की ओर बिठाएं। व इसके बाद भाई के माथ पर टीका लगाकर दाहिने हाथ पर रक्षा सूत्र बांधें। राखी बांधने के बाद भाई की आरती उतारें फिर उसको मिठाई खिलाएं। अगर बहन बड़ी हो तो छोटे भाई को आशीर्वाद दें और छोटी हो तो बड़े भाई को प्रणाम करें।

रक्षाबंधन पर्व का मुहूर्त 

रक्षाबंधन इस बार 3अगस्त 2020 को है।

राखी बांधने का शुभ मुहूर्त : 09:27:30 ते 21:17:03

कालावधी : 11 तास 49 मिनिटे

रक्षाबंधन अप्रहन मुहूर्त :13:47:39 ते 16:28:56रक्षा बंधन प्रदोष मुहूर्त :19:10:14 ते 21:17:03

इस बार  पूर्णिमा के दिन  चंद्रमा का ही श्रवण नक्षत्र है. मकर राशि का स्वामी शनि और सूर्य आपस मे समसप्तक योग बना रहे हैं. शनि और सूर्य दोनों आयु बढ़ाते हैं.

रक्षासूत्र बांधते समय संस्कृत में एक श्लोक का उच्चारण आता है।रक्षा-सूत्र या राखी बांधते हुए निम्न मंत्र पढ़ा जाता है, जिसे पढ़कर पुरोहित भी यजमानों को रक्षा-सूत्र बांध सकते हैं,ये श्लोक रक्षाबंधन का अभीष्ट मंत्र भी है।
मंत्र
येन बद्धो बलि राजा दानवेन्द्रो-महाबलः। तेन त्वाम रक्ष-बध्नामि, रक्षे माचल माचल:।।

रक्षाबंधन के श्लोक का संबंध राजा बलि से है। जिस रक्षासूत्र से महान शक्तिशाली दानवेन्द्र राजा बलि को बांधा गया था, उसी सूत्र से हम अपने संबंध बांधते हैं। हम अपने संकल्प से कभी भी विचलित न हों।

 https://livecultureofindia.com/रक्षाबंधन/

अतः जो व्यक्ति श्रावण शुक्ला पूर्णिमा को किसी प्रिय जनों से रक्षा सूत्र बंधवाएगा वह विजयी होकर भगवान इंद्र की भांति सुखी होगा। राखी एक संकल्प है भाई और बहन के बीच का। ये संकल्प है रिश्तों के बीच बुरे से बुरे समय में भी एक दूसरे के प्रति समर्पित रहने का।

रक्षाबंधन को मनाने की प्रचलित विधि

रक्षाबंधन को मनाने की एक अन्य विधि भी प्रचलित है। महिलाएँ सुबह पूजा के लिए तैयार होकर घर की दीवारों पर स्वर्ण टांग देती हैं। उसके बाद वे उसकी पूजा सेवईं, खीर और मिठाईयों से करती हैं।

फिर वे सोने पर राखी का धागा बांधती हैं। जो महिलाएँ नाग पंचमी पर गेंहूँ की बालियाँ लगाती हैं, वे पूजा के लिए उस पौधे को रखती हैं। अपने भाईयों की कलाई पर राखी बांधने के बाद वे इन बालियों को भाईयों के कानों पर रखती हैं।

कुछ लोग इस पर्व से एक दिन पहले उपवास करते हैं। फिर रक्षाबंधन वाले दिन, वे शास्त्रीय विधि-विधान से राखी बांधते हैं। साथ ही वे पितृ-तर्पण और ऋषि-पूजन या ऋषि तर्पण भी करते हैं।

कुछ क्षेत्रों में लोग इस दिन श्रवण पूजन भी करते हैं। वहाँ यह त्यौहार मातृ-पितृ भक्त श्रवण कुमार की याद में मनाया जाता है, जो भूल से राजा दशरथ के हाथों मारे गए थे।

इस दिन भाई अपनी बहनों तरह-तरह के उपहार भी देते हैं। यदि सगी बहन न हो, तो चचेरी-ममेरी बहन या जिसे भी आप बहन की तरह मानते हैं, उसके साथ यह पर्व मनाया जा सकता है।

https://livecultureofindia.com/रक्षाबंधन/ ‎

रक्षाबंधन मुहूर्त
रक्षा बंधन का पर्व श्रावण मास में उस दिन मनाया जाता है जिस दिन पूर्णिमा अपराह्ण काल में पड़ रही हो। हालाँकि आगे दिए इन नियमों को भी ध्यान में रखना आवश्यक है–

1. यदि पूर्णिमा के दौरान अपराह्ण काल में भद्रा हो तो रक्षाबन्धन नहीं मनाना चाहिए। ऐसे में यदि पूर्णिमा अगले दिन के शुरुआती तीन मुहूर्तों में हो, तो पर्व के सारे विधि-विधान अगले दिन के अपराह्ण काल में करने चाहिए।

2. लेकिन यदि पूर्णिमा अगले दिन के शुरुआती 3 मुहूर्तों में न हो तो रक्षा बंधन को पहले ही दिन भद्रा के बाद प्रदोष काल के उत्तरार्ध में मना सकते हैं।

यद्यपि पंजाब आदि कुछ क्षेत्रों में अपराह्ण काल को अधिक महत्वपूर्ण नहीं माना जाता है, इसलिए वहाँ आम तौर पर मध्याह्न काल से पहले राखी का त्यौहार मनाने का चलन है। लेकिन शास्त्रों के अनुसार भद्रा होने पर रक्षाबंधन मनाने का पूरी तरह निषेध है, चाहे कोई भी स्थिति क्यों न हो।

ग्रहण सूतक या संक्रान्ति होने पर यह पर्व बिना किसी निषेध के मनाया जाता है।

रक्षाबंधन राखी पूर्णिमा की पूजा-विधि

रक्षा बंधन के दिन बहने भाईयों की कलाई पर रक्षा-सूत्र या राखी बांधती हैं। साथ ही वे भाईयों की दीर्घायु, समृद्धि व ख़ुशी आदि की कामना करती हैं।

इस मंत्र के पीछे भी एक महत्वपूर्ण कथा है, जिसे प्रायः रक्षाबंधन की पूजा के समय पढ़ा जाता है। एक बार धर्मराज युधिष्ठिर ने भगवान श्रीकृष्ण से ऐसी कथा को सुनने की इच्छा प्रकट की, जिससे सभी कष्टों से मुक्ति मिल जाती हो। इसके उत्तर में श्री कृष्ण ने उन्हें यह कथा सुनायी |

रक्षाबंधन पर्व का धार्मिक महत्व

प्राचीन काल में देवों और असुरों के बीच लगातार 12 वर्षों तक संग्राम हुआ। ऐसा मालूम हो रहा था कि युद्ध में असुरों की विजय होने को है। दानवों के राजा ने तीनों लोकों पर कब्ज़ा कर स्वयं को त्रिलोक का स्वामी घोषित कर लिया था। दैत्यों के सताए देवराज इन्द्र गुरु बृहस्पति की शरण में पहुँचे और रक्षा के लिए प्रार्थना की। श्रावण पूर्णिमा को प्रातःकाल रक्षा-विधान पूर्ण

आप इन्हें भी पढ़ सकते हैं और वीडियो देखने के लिए नीचे क्लिक करें

नारियल की पूजा क्यों की जाती और पोराणिक कथा क्या है जाने,

सावन माह को सबसे पवित्र महीने का दर्जा क्यों दिया गया जानिए 

बाबा तुंग नाथ यात्रा की विडियो देखें 

देवगुरु ने उन्हें विजय के लिए रक्षा सूत्र बांधने को कहा। फिर शची ने युद्ध के लिए प्रस्थान कर रहे इंद्र के हाथों में रक्षा सूत्र बांधा। मान्यता है कि इसी रक्षा सूत्र के कारण देवता इस संग्राम में विजयी हुए। वह दिन श्रावण पूर्णिमा का था।
इसी रक्षा सूत्र की बदौलत माता लक्ष्मी ने भगवान विष्णु को राजा बलि के बंधन से मुक्त करवाया था।

महाभारत काल में रक्षा-सूत्र बांधने का उल्लेख मिलता है। द्रौपदी ने अपना आंचल फाड़ कर कृष्ण की उंगली में उसे बांधा था। कहा जाता है कि महाभारत के समय श्रीकृष्ण ने विजय के लिए युधिष्ठिर से रक्षा सूत्र बांधने को कहा था।

रक्षाबंधन के दिन पुरोहित भी अपने यजमानों को जनेऊ और  दाहिने हाथ में रक्षा सूत्र बांधते हैं। मान्यता है कि श्रावण पूर्णिमा के दिन श्रवण नक्षत्र हो, तो वह बहुत फलदायी होता है। पहले के समय में ऋषि-मुनि श्रावण पूर्णिमा के दिन अपने शिष्यों का उपाकर्म(जनेऊ संस्कार) कराकर उन्हें शिक्षा देना प्रारंभ करते थे।

रक्षाबंधन की पौराणिक घटनाएँ

रक्षाबंधन के साथ ऐसी पौराणिक घटनाएँ बताते हैं, जो इस त्यौहार के साथ जुड़ी हुई हैं,

• मान्यताओं के अनुसार इस दिन द्रौपदी ने भगवान कृष्ण के हाथ पर चोट लगने के बाद अपनी साड़ी से कुछ कपड़ा फाड़कर बांधा था। द्रौपदी की इस उदारता के लिए श्री कृष्ण ने उन्हें वचन दिया था कि वे द्रौपदी की हमेशा रक्षा करेंगे। इसीलिए दुःशासन द्वारा चीरहरण की कोशिश के समय भगवान कृष्ण ने आकर द्रौपदी की रक्षा की थी।

• एक अन्य ऐतिहासिक जनश्रुति के अनुसार मदद हासिल करने के लिए चित्तौड़ की रानी कर्णावती ने मुग़ल सम्राट हुमाँयू को राखी भेजी थी। हुमाँयू ने राखी का सम्मान किया और अपनी बहन की रक्षा गुजरात के सम्राट से की थी।

• ऐसा भी कहा जाता है कि इस दिन देवी लक्ष्मी ने सम्राट बाली की कलाई पर राखी बांधी थी।

आप सभी महानुभावों को रक्षाबंधन,3अगस्त 2020 की बहुत बहुत शुभकामनाए

 https://livecultureofindia.com/रक्षाबंधन/

 

One thought on “रक्षाबंधन अगस्त 2020 पूजा-विधि,पर्व का मुहूर्त | Rakshaabandhan

  • July 23, 2020 at 12:08 pm
    Permalink

    P.ji bhaut achee trike se btaya, koti koti pranam 🙏

    Reply

Leave a Reply

%d bloggers like this: