सावन में व्रत रखने का प्रावधान और सावधानिया जानिए आचार्य पंकज पुरोहित जी से /saavan ke maheene mein somavaar ko vrat rakhane ka praavadhaan

सावन के महीने में व्रत रखने का प्रावधान
सावन के महीने में  शिव भक्त अपने अराध्य देवों के देव महादेव  की अराधना में जुट जाते हैं सावन के इसी महीने में शिवरात्रि भी आती है सावन का महीना में  लोग शिव-पार्वती की पूजा-अर्चना में खुद को रमाएंगे. इस महीने में सोमवार को व्रत रखने का प्रावधान है.

सावन के मौसम में पड़ने वाले इन चार सोमवारों में शिवभक्त व्रत रखते हैं. सावन में सोमवार का व्रत रखने से जुड़ी बहुत सी मान्यताएं हैं, लोगों का मानना है कि श्रावण सोमवार के व्रत रखने से अच्छा और मनचाहा जीवनसाथी मिलता है. सावन के दौरान रखे जाने वाले इन व्रतों को सावन के चार सोमवार व्रत के तौर पर जाना जाता है

श्रावण माह के सोमवार व्रत खास तौर पर कुवांरी कन्याओं के लिए होता है, क्योंकि इसे रखने से मनचाहा वर मिलने की मान्यता है. व्रत रखने का मतलब है पूरे दिन अन्न न लेना. ऐसे में सेहत से जुड़ी कई परेशानियां हो सकती है.

आप इन्हें भी पढ़ सकते हैं और वीडियो देखने के लिए नीचे क्लिक करें

नारियल की पूजा क्यों की जाती और पोराणिक कथा क्या है जाने,

सावन माह को सबसे पवित्र महीने का दर्जा क्यों दिया गया जानिए 

बाबा तुंग नाथ यात्रा की विडियो देखें 

अचानक से अपने रोजमर्रा के आहार में बदलाव करना और कम आहार लेना आपकी सेहत के लिए कई मायनों में खतरनाक हो सकता है. ऐसे में व्रत के दौरान अपनी सेहत से जुड़ी सवाधानियां बरतना भी जरूरी है, तो चलिए हम आपको बताते हैं कि कैसे आप भक्ति और सेहत का संतुलन बना सकते हैं-

 https://livecultureofindia.com/व्रत-रखने-का-प्रावधान/ ‎

चार सोमवार व्रत 

के दौरान कुछ लोग एक समय का खाना खाते हैं, तो कई लोग पूरा दिन फलहार पर ही हैं. इस दौरान ख्याल रखा जाना चाहिए कि कम खाना या भूखा रहना आपके स्वास्थ्य को किसी तरह से हानि न पहुंचाए. व्रत रखते समय कई बातों का ध्यान रखने की जरूरत है जैसे-
इस बात का ध्यान रखें कि हर दिन आपके शरीर को जरूरी मात्रा में पोषक तत्व मिलें
– खाली पेट न रहें और ज़्यादा से ज़्यादा तरह के पदार्थ लेते रहें. ऐसा करने से शरीर में ऊर्जा बनी रहेगी और साथ ही डिहाइड्रेशन से भी बचे रहेंगे.
सावन में अगर आप सोमवार के व्रत रख रहे हैं तो डाइट में फलों को शामिल करें.

व्रत में क्या न खाएं

– पुराना बचा कूट्टू या सिंघाड़े का आटा इस्तेमाल न करें. यह कुछ समय बात खराब हो जाता है. ऐसे में इसे खाने से डायरिया होने का खतरा बढ़ जाता है.
– बर्फी, लड्डू और फ्राइड आलू जैसी तली और अत्यधिक चीनी वाली चीजों को खाने से बचें.

– अगर आप ज्यादा तला-भुना, मीठा या बिना नमक का खाना ले रहे हैं तो यह आपको ब्लडप्रेशर से जुड़ी समस्या दे सकता है.
– तला-भुना खाना आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है. यह वजन बढ़ाने का काम कर सकता है या शुगर को भी प्रभावित कर सकता है.

– इस मौसम में तला-भुना खाने से बचें. बारिश के मौसम में यह संक्रमण या अपच की समस्या पैदा कर सकती है.

– खाली पेट रहने से एसिडिटी हो सकती है, ऐसे में ठंडा दूध लें और थोड़ी-थोड़ी देर में कुछ खाते रहें.

– अगर आपको डायबिटीज की शिकायत है, तो इस बात का खास ध्यान रखें कि आप ज्यादा देर तक खाली पेट न रहें. कुछ न कुछ खाते रहें और भरपूर पानी पिएं.
पढ़ें हल्दी वाले दूध के फायदे, यह खास चीज बढ़ाएगी इसकी ताकत

व्रत में क्या खाएं

– व्रत के दौरान क्योंकि आप अनाज नहीं खाते इसलिए जरूरी है कि आप संतुलित भोजन लें.
– अगर आप सिर्फ फ्रूट्स खाते हैं और पानी कम पीते हैं तो कब्ज या शारीरिक कमजोरी महसूस हो सकती है.
– कुट्टू के आटे की रोटी या इडली भी आपके स्वाद और सेहत के लिए अच्छी साबित होगी.
– व्रत में खाए जाने वाले सामक के चावल आप पका सकते हैं अगर थोड़ा स्वाद भी पाना चाहते हैं तो इससे बना डोसा खा सकते हैं.
– आप खुद को एनर्जी देने के लिए लस्सी, मिल्करशेक, जूस वगैरह ले सकते हैं.
– जब भूख ज्यादा लगी हो तो ड्राई फ्रूट खा लें
आप सभी महानुभावों को श्रावण माह की बहुत बहुत शुभकामनाएं

 https://livecultureofindia.com/व्रत-रखने-का-प्रावधान/ ‎

Leave a Reply