खून की कमी के लक्षण और दूर करने के प्राकृतिक उपाय | Symptoms of anemia

खून की कमी

खून की कमी को एनीमिया रोग भी कहते हैं खून की कमी होने का मुख्य कारण आयरन, विटामिन बी12 या फोलिक एसिड की शरीर में कमी होने से होती है| खून की कमी के मामले में पुरुषों के मुकाबले,महिलाओं में ये समस्या ज्यादा देखने को मिलती है।

 https://livecultureofindia.com/खून-की-कमी-के-लक्षण/

खून की कमी के लक्षण

1-अत्यधिक थकान लगना
2-त्वचा रूखा और पीला होना
3-साँसे फूलने लगती हैं
4-दिल की धड़कन बढ़ती है
5-पैरों में ऐठन

आयुर्वेद मे रक्त को जीवनीय कहा गया है। इसकी उपस्थिति से ही शरीर मे जीवन की स्थिति होती है। मानव शरीर में खून की कमी अनेको रोगों को जन्म देती है। खून की कमी को विशेष रूप से एनीमिया कहते हैं।

खून की कमी के प्राकृतिक उपाय

 https://livecultureofindia.com/खून-की-कमी-के-लक्षण/

आइए जानते है वो कौनसे प्राकृतिक उपाय है जो खून में और हीमोग्लोबिन में वृद्धि करते है|

अनार- अनार के रस मे हेमोग्लॉबिन को बड़ाने की विशेष शक्ति होती है।इसलिए रोगियों एवं कमजोर लोगोंं को अनार का ताजा रस पीने की सलाह दी जाती है।

अमरूद- अमरूद जितना ज्यादा पका हुआ होगा, उतना ही पौष्टिक होगा। पके अमरूद को खाने से शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी नहीं होती। इसलिए महिलाओं के लिए यह और भी लाभदायक हो जाता है।

नारियल पानी- नारियल के पानी मे पित को शांत करने एवं हेमोग्लॉबिन को बड़ाने की शक्ति होती है।

आम- आम खाने से हमारे शरीर में रक्ति अधिक मात्रा में बनता है, एनीमिया में यह लाभकारी होता है।

सेब- सेब एनीमिया जैसी बीमारी में लाभकारी होता है। सेब खाने से शरीर में हीमोग्लोबिन बनता है।

आप इन्हें भी पढ़ सकते हैं और वीडियो भी देख सकते हैं

पैरों के तलवों में तेल लगाने के 18 फायदे जानिए लोगों का अनुभव

सेब खाने के फायदे तो क्यों ना आजमाएं

अच्छे स्वास्थ्य के लिए घर में अजमाएं ये 8 काम की बातें

तुलसी के औषधीय गुण व उपयोग |

लहसुन Garlic के क्या-क्या फायदे खाने में क्यों शामिल करें

उत्तराखंड पहाड़ों में कैसे रहते हैं Documentary film

अंगूर- अंगूर में भरपूर मात्रा में आयरन पाया जाता है। जो शरीर में हीमोग्लोबिन बनाता है, और हीमोग्लोबिन की कमी संबंधी बीमारियों को ठीक करने में सहायक होता है।

चुकन्दर- चुकन्दर से प्राप्त उच्च गुणवत्ता का लोह तत्व रक्त में हीमोग्लोबिन का निर्माण व लाल रक्तकणों की सक्रियता के लिए बेहद प्रभावशाली है।

खून की कमी यानी एनीमिया की शिकार महिलाओं के लिए चुकंदर रामबाण के समान है। चुकन्दर के अलावा चुकन्दर की हरी पत्तियों का सेवन भी बेहद लाभदायी है। इन पत्तियों में तीन गुना लौह तत्व अधिक होता है।

तुलसी- तुलसी रक्त की कमी को कम करने के लिए रामबाण है। तुलसी के नियमित सेवन से शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ती है।

सब्जियां- शरीर में हीमोग्लोबिन बढ़ाने के लिए ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियां को अपने भोजन में शामिल करना चाहिए। हरी सब्जियों बिशेषकर पालक में हीमोग्लोबिन बढ़ाने वाले तत्व ज्यादा मात्रा में पाये जाते है।

तिल- तिल हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाता है। तिल खाने से रक्ताअल्पता की बीमारी ठीक होती

आम इन्सान के शरीर में कम से कम कितना खून होना चाहिए

जहाँ तक बात करें आम इन्सान के खून की मात्रा का पुरुषों में हीमोग्लोबिन का सामन्य स्तर 13.5-17.5 ग्राम प्रति डेसीलीटरऔर वहीं, महिलाओं में कम से कम 12.0 – 15.5 ग्राम प्रति डेसीलीटर हीमोग्लोबिन की मात्राहोने को तंदुरुस्त माना गया है|

शरीर में रक्‍त के कणों का जीवन सिर्फ 90 से 120 दिन तक का होता है। प्रतिदिन हमारे शरीर में पुराने रक्‍त का क्षय होता रहता है और नया रक्‍त बनता जाता है|

खून की कमी के लक्षण  होने पर समय पर डाक्टरी प्रमर्स जरुर लें

                                                         

One thought on “खून की कमी के लक्षण और दूर करने के प्राकृतिक उपाय | Symptoms of anemia

  • February 28, 2021 at 10:03 am
    Permalink

    Its like you read my mind! You seem to know a lot about this, like you wrote the book
    in it or something. I think that you could do with a
    few pics to drive the message home a little
    bit, but other than that, this is excellent blog.
    An excellent read. I will definitely be back.

    Reply

Leave a Reply

%d bloggers like this: