Amazing 4 Benefits of drinking Mattaka water | मटके का पानी के फायदे

मटके का पानी के फायदे |Benefits of Mattaka water https://livecultureofindia.com/benefits-of-drinking-mattaka-water/

गर्मीयां शुरु होते ही ठंडा पानी Mattaka water पीने में जितना ठंडा और सुकूनदायक लगता है,वो उतनाही नुकसान दायक भी होता है, ठंडा पानी गर्मियों में अमृत समान लगता है।

अपनी प्यास बुझाने के लिए लोग ठंडा पानी पीते हैं. पानी ठंडा करने के लिए ज्यादातर लोग फ्रिज का इस्तेमाल करते हैं,लेकिन कुछ लोग जो अपने शहर से दूर किराए पर कमरा लेकर रहते हैं|

या जो फ्रिज खरीदना अफोर्ड नहीं कर सकते उनके लिए तो मिट्टी का बना मटका Mattaka water ही देसी फ्रिज का काम करता है. मटके से सोंधी महक के पानी के कहने ही क्या हैं?

इस पानी में जहां काफी स्वाद होता है वहीं स्वास्थ्य के लिहाज से भी यह बेहद अच्छा माना जाता है. आइए जानते हैं मटके के पानी के फायदे:

मटके के पानी के फायदे – Benefits Of Clay Water Pot (Mattaka water)

1.मटके के पानी (Mattaka water) में अलकलाइन Alkaline गुण होते हैं जिससे इसका PH बैलेंस रहता है और यह पानी सेहत के लिहाज से भी काफी बेहतर होता है.

2. (Mattaka water) मटके का पानी पीने से टेस्टोस्टेरॉन Testosteron हार्मोन जिसे कि मेल हार्मोन भी कहा जाता है का स्तर बढ़ता है.

3. मटके का पानी पीने से पेट में जलन, कब्ज और एसिडिटी (Irritation, constipation and acidity)की समस्या भी नहीं होती है.

4. (Mattaka water) रोज मटके का पानी पीने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्युनिटी पॉवर) मजबूत होती है.

इसके साथ ही यदि हम मिट्टी से बने बर्तनों का उपयोग खाना पकाने के लिए भी करें तो इसके और भी फायदे हो जाते हैं,

कृपया हमारा यह ब्लॉग और वीडियो भी देखें

Chopta Tungnath beautiful place of Uttarakhand

अपने घर के मंदिर में पूजा और ध्यान रखने वाली जरूरी बातें

गांव की जिंदगी | village life in

 tea tree oil | त्वचा की देखभाल करें

धनतेरस के दिन खरीदारी इन 5 चीजों की भूल कर भी न करें

सिंपल वेज बिरयानी रेसिपी | Easy Veg Biryani Recipe

उत्तराखंड पहाड़ों में कैसे रहते हैं Documentary film

Mattaka water मटके की देखभाल

 https://livecultureofindia.com/benefits-of-drinking-mattaka-water/

1. हर सप्ताह में दो बार मटका गर्म पानी से साफ़ करें. मटके की सफाई के बाद इसमें फ्रेश पानी भरें.

2. मटके को एक स्टैंड कर रखें ताकि ये बहुत ज्यादा हिले नहीं.

3. (Mattaka water) किसी सफ़ेद कॉटन के कपडे को गीला कर मटके का मुंह बांध कर रखें ताकि इसमें मिट्टी के कण प्रवेश न कर सकें. हो सके तो इसे ढंकने के लिए मिट्टी के ढक्कन का इस्तेमाल करें.

4. (Mattaka water) मिट्टी प्राकृतिक रूप से ठंडी होती है और मिट्टी से बने मटके से पानी रिसता भी है और यही रिसाव पानी को ठंडा भी रखता है

पर यदि ये रिसाव कम या पुर्णत बंद हो जाए तो मटके के चारो ओर मोटा सुती कपड़ा गीला कर लपेट दे या संभव ही तो मटका बदल दे।

Leave a Reply