आकाशीय बिजली ने मचाया मौत का तांडव, पीएम नरेंद्र मोदी ने जताया दुःख की मुआवजे की घोषणा,

आकाशीय बिजली गिरने से उत्तर प्रदेश ,मध्य प्रदेश,राजस्थान में कोहराम मचाया उत्तर प्रदेश में सबसे ज़्यादा नुक्सान प्रयागराज में हुआ और राजस्थान में सबसे बड़ा हादसा आमेर किले के पास में हुआ,बिजली गिरने से कई लोगों की मृत्यु हो गई और कई लोग इस घटना में झुलस भी गए।

पीएम मोदी ने दुःख जताया, आकाशीय बिजली गिरने से कई लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। इससे अत्यंत दुख हुआ है। मैं मृतकों के परिजनों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं:

मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में बिजली गिरने की घटना को लेकर पीएम मोदी ने जान गंवाने वालों और घायलों के परिजनों को पीएम राष्ट्रीय राहत कोष से घायलों को 50 हजार रुपये,जान गंवाने वालों को 2-2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की.

 https://livecultureofindia.com/national-राष्ट्रीय-news/आकाशीय-बिजली-ने-मचाया-मौत/

पीएम मोदी के हवाले से पीएमओ ने ट्वीट किया, “उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में आकाशीय बिजली गिरने से हुई जनहानि हृदयविदारक है. इस त्रासदी में जिन लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है, उनके परिजनों के प्रति मैं अपनी शोक संवेदना प्रकट करता हूं. ईश्वर उन्हें इस दुख को सहने की शक्ति दें.”

बिजली गिरने से राजस्थान में लगभग 20 लोगों की जानें गयी इनमें धौलपुर में 3,जयपुर में 11,कोटा में 4, झालावाड़ में 1 और बारां में 1 लोगों की मौत हुई है.

आकाशीय बिजली गिरने से उत्तर प्रदेश सरकार के अनुसार, उत्तर प्रदेश में 41 लोगों की मौत हुई सबसे ज्यादा 14 लोगों की मौत प्रयागराज में हुई,फिरोजाबाद में 3 ,कौशांबी में 4 कानपुर देहात और फतेहपुर में 5-5 ,उन्नाव-हमीरपुर-सोनभद्र में 2-2,हरदोई-मिर्जापुर में 1-1लोगों की बिजली गिरने से मौत हुई,और आकाशीय बिजली से 23 लोग झुलसे, 250 से ज्यादा मवेशियों की भी मौत हुई है

रणवीर प्रसाद, राहत आयुक्त उत्तर प्रदेश ने बतया,

कल प्रदेश के 16 जनपदों में आकाशीय बिजली गिरने से कुल 41 लोगों की मौत हुई और 23 लोग घायल हुए। 250 पशुओं की मौत हुई और 20 पशु आकाशीय बिजली गिरने से घायल हुए। मृतकों के रिश्तेदारों को 4 लाख रुपये की सहायता दी जाएगी,

मध्य प्रदेश में आकाशीय बिजली गिरने से 7 लोगों की मौत हुई

इन्हें भी पढ़ें-

Mouth ulcers मुंह के छालों का घरेलू 9 उपाय जरुर आजमायें

एलोवेरा जेल का चेहरे और बालों पर उपयोग

सिंपल वेज बिरयानी रेसिपी | Easy Veg Biryani Recipe

उत्तराखंड गांव की सांस्कृतिक परंपरा चक्रव्यूह

पितर कौन होते हैं और तर्पण किन को दिया जाता जाने

Leave a Reply