इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस, हैदराबाद के 20 वर्ष पूरे होने पर प्रधानमंत्री का संबोधन

प्रधानमंत्री गुरूवार 26 मई 2022 को इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस, हैदराबाद के 20 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्‍य में आयोजित विशेष समारोह में शामिल हुए । प्रधानमंत्री ने तमिलनाडु में 31 हजार 500 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाएं राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने हैदराबाद में इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस के 20 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में आयोजित समारोह को संबोधित किया। प्रधानमंत्री के भाषण की मुख्य बातें।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा आज इंडियन स्कूल ऑफ़ बिज़नस ने अपनी गौरवमयी यात्रा का एक अहम माइलस्टोन पार किया है। हम सभी ISB की स्थापना के 20 साल पूरे होने को सेलिब्रेट कर रहे हैं। आज अनेक साथियों को अपनी डिग्री मिली है, गोल्ड मेडल मिले हैं। ISB को सफलता के इस पड़ाव पर पहुंचाने में अनेकों लोगों की तपस्या रही है। मैं आज उन सभी को याद करते हुए आप सभी को, ISB के प्रोफेसर्स, फेकल्टी, सभी स्टूडेंट्स को, पेरेन्ट्स को, आई एस बी के एल्यूमनाइज को बहुत-बहुत बधाई देता हूँ।

साल 2001 में अटल जी ने इसे देश को समर्पित किया था। तब से लेकर आज तक लगभग 50 हज़ार एक्ज़ीक्यूटिव यहाँ से ट्रेन होकर निकले हैं। आज आई एस बी एशिया के टॉप बिजनेस स्कूलों में से एक है। आई एस बी से निकलने वाले जो प्रोफेशनल्स हैं। वे देश के बिजनेस को गति दे रहे हैं, बड़ी-बड़ी कंपनियों का मैनेजमेंट संभाल रहे हैं। यहाँ के स्टूडेंट्स ने अनेक स्टार्ट अप्स बनाए हैं, अनेकों यूनिकॉर्न्स निर्माण में उनकी भूमिका रही है। ये आई एस बी के लिए उपलब्धि तो है ही पूरे देश के लिए गर्व का विषय भी है।

इन्हें भी पढ़ें-

Beautiful Place Badani Tal Uttarakhand | बधाणीताल

अपने घर के मंदिर में पूजा और ध्यान रखने वाली जरूरी बातें

Winter Gaddiasthan of Makku Math Baba Tungnath ji

फेसियल करने का सही तरीका-The right way to do facial

प्रधानमंत्री कहा मुझे बताया गया है कि ये हैदाराबाद और मोहाली कैंपस की पहली जॉइंट ग्रेजुएशन सेरेमनी है। आज जो स्टूडेंट्स पास होकर निकल रहे हैं, उनके लिए ये इसलिए भी खास है क्योंकि इस समय देश अपनी आजादी के 75 वर्ष का पर्व मना रहा है, अमृत महोत्सव मना रहा है। हम बीते 75 साल की उपलब्धियों को देख रहे हैं और आने वाले 25 साल के संकल्पों का रोडमैप भी बना रहे हैं। आज़ादी के इस अमृतकाल में, आने वाले 25 साल के लिए जो संकल्प हमने लिए हैं, उसकी सिद्धि में आप सभी की बहुत बड़ी भूमिका है। और आज भारत में जो आशा है, लोगों में जो आत्मविश्वास है, नए भारत के निर्माण के लिए जो इच्छाशक्ति है, वो आपके लिए भी अनेक संभावनाओं के द्वार खोल रही है। आप खुद देखिए, आज भारत G20 देशों के समूह में फास्टेस्ट ग्रोइंग इकॉनमी है। Smartphone date consumer के मामले में भारत पहले नंबर पर है। Internet users की संख्या को देखें तो भारत दुनिया में दूसरे नंबर पर है। Global Retail Index में भी भारत दुनिया में दूसरे नंबर पर है।

प्रधानमंत्री कहा दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा Startup Ecosystem भारत में है। दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा Consumer Market भारत में है। ऐसी कई चीजें मैं आपके सामने रख सकता हूँ, गिना सकता हूँ। कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में हम सबने और दुनिया ने भारत का सामर्थ्य देखा है। सदी की इस सबसे बड़ी आपदा में ग्लोबल सप्लाई चेन्स में इतना बड़ा disruption हुआ, फिर युद्ध ने भी इस संकट को और बढ़ा दिया। इन सबके बीच भी, भारत आज ग्रोथ के एक बड़े केंद्र के रूप में उभर रहा है। पिछले साल भारत में अब तक का सबसे ज्यादा, रेकॉर्ड FDI आया। आज दुनिया ये महसूस कर रही है कि India means business. और ये केवल अकेले सरकार के प्रयासों के कारण संभव नहीं हुआ है। इसमें ISB जैसे बिज़नेस स्कूल्स का, यहाँ से निकलने वाले प्रोफेशनल्स का, देश के युवा का भी बहुत बड़ा योगदान है।

चाहे स्टार्टअप्स हों, या traditional business हो, चाहे manufacturing हो या सर्विस सेक्टर हो, हमारे युवा ये साबित कर रहे हैं कि वो दुनिया को लीड कर सकते हैं। मैं सही बता रहा हूँ ना, आपको भरोसा है कि नहीं अपने आप पर। मुझे आप पर भरोसा है। आपको अपने आप पर है? इसीलिए आज दुनिया भारत को, भारत के युवाओं को, और भारत के products को एक नए सम्मान और नए भरोसे के साथ देख रही है।

प्रधानमंत्री कहा भारत जिस स्केल पर लोकतांत्रिक तरीके से अनेक चीजें अपने यहाँ कर सकता है, जिस तरीके से हम यहाँ कोई नीति या निर्णय लागू कर सकते हैं, वो पूरी दुनिया के लिए अध्ययन का सीखने का विषय बन जाता है। और इसलिए हम अक्सर Indian solutions को globally implement होते हुए देखते हैं। और इसलिए मैं आज इस महत्वपूर्ण दिन पर आपसे कहूंगा कि आप अपने व्यक्तिगत लक्ष्यों को, देश के लक्ष्यों के साथ जोड़िए। आप जो सीखते हैं, आपका जो भी अनुभव होता है, आप जो भी initiatives लेते हैं, उससे देशहित कैसे सधेगा, इस बारे में हमेशा सोचना चाहिए, जरूर सोचिये। आज देश में चाहे Ease of Doing Business के लिए अभियान हो, डेढ़ हजार से ज्यादा पुराने कानूनों और हजारों compliances को समाप्त करने का काम हो, टैक्स के अनेकों कानूनों को समाप्त करके GST जैसी पारदर्शी व्यवस्था का निर्माण हो, Entrepreneurs और innovation को बढ़ावा देना हो, नई स्टार्ट अप पॉलिसी हो, ड्रोन पॉलिसी हो, अनेक नए सेक्टर्स को खोलना हो, 21वीं सदी की आवश्यकताओं को पूरा करने वाली नेशनल एजुकेशन पॉलिसी को लागू करना हो, ये सारे बड़े बदलाव आप जैसे युवाओं के लिए ही तो हो रहे हैं। आप जैसे युवाओं की तरफ से आने वाले जो solutions हैं, उन solutions को implement करने के लिए, आपके idea को देश की ताकत बनाने के लिए हमारी सरकार हमेशा देश की युवा शक्ति के साथ खड़ी है।

इन्हें भी पढ़ें-

त्रिजुगी नारायण मंदिर, world oldest religious Temple

कन्यादान न किया हो तो तुलसी विवाह करके ये पुण्य अर्जित करें,

सूर्य भगवान की पूजा | benefits of surya pooja

आपने सुना होगा कई बार मैं एक बात को बार-बार दोहराता भी हूँ और अक्सर मैं कहता हूँ Reform, Perform, Transform की बात करता हूँ। ये मंत्र, देश में आज जो governance है, उसे define करता है। ये आप जैसे मैनेजमेंट के स्टूडेंटस, प्रोफेशनल्स के लिए भी बहुत अहम है। मैं ये सारी बातें आपको इसलिए बता रहा हूँ क्योंकि आप लोग यहाँ से निकलने के बाद बहुत सारे Policy decisions लेने वाले हैं। Policy सिर्फ ड्रॉइंग बोर्ड पर अच्छी हो, कागज़ पर बेहतर हो, जमीन पर अगर नतीजे ना दें, तो उसका कोई लाभ नहीं होता। इसलिए पॉलिसी का आकलन, Implementation और End Result के आधार पर होना चाहिए। Reform, Perform, Transform के मंत्र ने कैसे Policies को, देश की Governance को Redefine किया है, ये भी मैं चाहूँगा कि आप जैसे नौजवानों ने जानना बहुत जरूरी है।

प्रधानमंत्री कहा बीते 8 साल की तुलना अगर आप उससे पहले के 3 दशक से करेंगे तो, एक बात जरूर नोट करेंगे। हमारे देश में रिफॉर्म्स की ज़रूरत तो हमेशा से महसूस की जाती रही थी लेकिन Political willpower की हमेशा कमी रहती थी। पिछले तीन दशकों में लगातार बनी रही राजनीतिक अस्थिरता के कारण देश ने लंबे समय तक Political willpower की कमी देखी। इस वजह से देश reforms से, बड़े फैसले लेने से दूर ही रहा है। 2014 के बाद से हमारा देश राजनीतिक इच्छाशक्ति को भी देख रहा है और लगातार Reforms भी हो रहे हैं। हमने दिखाया है कि अगर ईमानदारी के साथ, इच्छाशक्ति के साथ reform की प्रक्रिया को आगे बढ़ाई जाए तो जनसमर्थन अपने आप बढ़ता है। Fintech का उदाहरण हमारे सामने है। जिस देश में कभी बैंकिंग ही एक privilege मानी जाती थी,

Documentary film

Nirankar Dev Pooja in luintha pauri garhwal Uttarakhand

उसी देश में fintech सामान्य नागरिकों के जीवन को बदल रही है। जहाँ कभी बैंकों के प्रति भरोसा कायम करने के लिए बहुत सारी मेहनत करनी पड़ती थी, वहाँ अब दुनिया की 40 प्रतिशत डिजिटल ट्रांजेक्शन हिन्दुस्तान में हो रही हैं। हमारे Health Sector को भी ये माना जाता था कि ये किसी बड़ी चुनौती को respond नहीं कर पाएगा। लेकिन Health Sector में reform की देश की इच्छाशक्ति का परिणाम हमने 100 साल की सबसे बड़ी महामारी के दौरान अनुभव किया है। कोरोना ने जब दस्तक दी तब हमारे पास PPE किट्स बनाने वाले मैन्युफेक्चरर ना के बराबर थे, कोरोना स्पेसिफिक ज़रूरी इंफ्रास्ट्रक्चर भी नहीं था। लेकिन देखते ही देखते 1100 से अधिक PPE manufacturers का नेटवर्क भारत में तैयार हो गया। कोरोना की टेस्टिंग के लिए भी शुरुआत में कुछ दर्जन लैब्स थीं। बहुत कम समय में देश में ढाई हज़ार से अधिक टेस्ट लैब्स का नेटवर्क बन गया। कोविड वैक्सीन्स के लिए तो हमारे यहाँ चिंता जताई जा रही थी कि हमें विदेशी वैक्सीन मिल पाएगी भी या नहीं। लेकिन हमने अपनी वैक्सीन्स तैयार कीं।
इतनी वैक्सीन्स बनाईं कि भारत में भी 190 करोड़ से ज्यादा डोज़ लगाई जा चुकी हैं। भारत ने दुनिया के 100 से अधिक देशों को भी वैक्सीन्स भेजी हैं। इसी प्रकार मेडिकल एजुकेशन में भी हमने एक के बाद एक अनेक रिफार्म किए। इसी का परिणाम है कि बीते 8 सालों में मेडिकल कॉलेज की संख्या 380 से बढ़कर 600 से भी अधिक हो गई है। देश में मेडिकल की ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट की सीटें 90 हज़ार से बढ़कर डेढ़ लाख से ऊपर हो चुकी हैं।

प्रधानमंत्री कहा पिछले आठ वर्षों में देश ने जो इच्छाशक्ति दिखाई है, उसकी वजह से एक और बड़ा बदलाव आया है। अब ब्यूरोक्रेसी भी पूरी शक्ति से Reforms को जमीन पर उतारने में जुटी है। सिस्टम वही है, लेकिन अब नतीजे बहुत संतोषजनक मिल रहे हैं। और इन आठ वर्षों में जो सबसे बड़ी प्रेरणा बनी है, वो है जनभागीदारी। देश की जनता खुद आगे बढ़कर Reforms को गति दे रही है। और हमने ये स्वच्छ भारत अभियान में देखा है। और अब वोकल फॉर लोकल और आत्मनिर्भर भारत अभियान में भी हम जनभागीदारी की ताकत को देख रहे हैं। जब जनता सहयोग करती है तो नतीजे अवश्य मिलते हैं, जल्दी मिलते हैं। यानि सरकारी व्यवस्था में सरकार reform करती है, ब्यूरोक्रेसी perform करती है और जनता के सहयोग से transformation होता है।

ये आपके लिए एक बहुत बड़ी केस स्टडी है, Reform, Perform, Transform की जो ये डायनिमिक्स है, वो आपके लिए रिसर्च का विषय है। ISB जैसे बड़े संस्थान को अध्ययन करके, analysis करके दुनिया के सामने इसे लाना चाहिए। यहाँ से जो युवा साथी पढ़कर निकल रहे हैं, उन्हें भी Reform, Perform, Transform के इस मंत्र को हर क्षेत्र में लागू करने का प्रयास करना चाहिए।

मैं आपका ध्यान, देश के sports ecosystem में आए ट्रांसफॉर्मेशन की तरफ भी दिलाना चाहता हूँ। आखिर क्या कारण है कि 2014 के बाद हमें खेल के हर मैदान में अभूतपूर्व प्रदर्शन देखने को मिल रहा है? इसका सबसे बड़ा कारण है हमारे एथलीट्स का आत्मविश्वास। आत्मविश्वास तब आता है, जब सही टैलेंट की खोज होती है, जब टैलेंट की handholding होती है, जब एक transparent selection होता है, ट्रेनिंग का, कंपीटिशन का एक बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर मिलता है। खेलो इंडिया से लेकर ओलंपिक्स पोडियम स्कीम तक ऐसे अनेक रिफॉर्म्स के चलते आज sports को Transform होते हम अपनी आंखों के सामने देख सकते हैं, अनुभव कर सकते हैं।

Documentary film .

 उत्तराखंड पहाड़ों में कैसे रहते हैं भाग 6 ,चोलाई की खेती कैसे करते हैं

मैनेजमेंट की दुनिया में performance, value addition, productivity और motivation, इन बातों पर भी बहुत चर्चा होती है। अगर आपको पब्लिक पॉलिसी में इसका उत्तम उदाहरण देखना है, तो आपको aspirational district program को ज़रूर स्टडी करना चाहिए। हमारे देश में 100 से अधिक ऐसे जिले थे, जो विकास की दौड़ में काफी पीछे थे। देश के लगभग सभी राज्यों में एकाद दो-एकाद दो कहीं पर थोड़े ज्यादा ऐसे aspirational district हैं। विकास से जुड़े हर पैरामीटर में ये जिले बहुत कम स्कोर करते थे। इसका सीधा प्रभाव देश की ओवरऑल performance पर, रेटिंग पर, ओवरऑल प्रदर्शन पर बड़ा नेगेटिव असर पड़ता था। इनको ये समझकर कुछ हो नहीं रहा है, बदलाव दिख नहीं रहा है, हालात बुरे हैं, और इसलिए सरकारें क्या करती थीं। उसको पिछड़ा घोषित कर देती थी।, ये तो backward district है, अगर यही सोच है तो उनके मन में भी हो जाता आया आता ऐसी ही रहेगा कुछ बदलाव नही होगा। सरकारी सिस्टम में जिन अफसरों को सबसे कम प्रोडक्टिव माना जाता था, निकम्मा माना जाता था, उनको अक्सर इन जिलों में तैनात करने देना और जाओ बई तुम तुम्हारा जानो तुम्हारा नसीब जाने पडे रहो।