उत्तरकाशी प्राकृतिक आपदा से पीड़ितों के लिए हंस फाउंडेशन ने बढ़ाया हाथ

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में 18 जुलाई रात को आई प्राकृतिक आपदा से पीड़ित ग्रामीणों की मदद के लिए शासन-प्रशासन के साथ-साथ सामाजिक संगठन ने भी मदद के लिए हाथ बढ़ाए,सामज सेवा के क्षेत्र में अग्रणीय भूमिका निभा रहे हंस फाउंडेशन भी उत्तरकाशी आपदा पीड़ितों के ग्रामीणों तक खाद्य सामग्री पहुंचा ग्रामीणों को इस आपदा के समय में बड़ी मदद पहुंचाई है।

रविवार 18 जुलाई को देर रात बादल फटने से उत्तरकाशी के मांडो,पनवाड़ी और कंकराड़ी गांव के साथ निराकोट गांव में भारी नुकसान पहुंचा है। हालांकि, निराकोट में किसी प्रकार की जनहानि नहीं हुई है। लेकिन ग्रामीणों के खेत सहित घरों को नुकसान पहुंचा है।

गांव में बादल फटने की घटना में 3 लोगों की मौत हो गई,4 लोग लापता बताए जा रहे हैं। बादल फटने के बाद से इस क्षेत्र के सड़क मार्ग बंद हो गए। जिससे इन गांव तक पुहंचने में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

हंस फाउंडेशन की संस्थापक माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज ने रविवार रात उत्तरकाशी के ग्राम निराकोट, कंकराड़ी, पनवाड़ी और मांडो में अतिवृष्टि के कारण मारे गए लोगों के प्रति शोक संवेदना प्रकट करते हुए उनकी आत्मा की शांति एवं शोक संतप्त परिवारजनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

इन्हें भी पढ़ें-

सावन को सबसे पवित्र महीना क्यों कहा गया जानिए

अपने घर के मंदिर में पूजा और ध्यान रखने वाली जरूरी बातें

लौंग के फायदे | 14 Benefits Of Cloves

पाव भाजी रेसिपी भारतीय स्वादिष्ट व्यंजन | Pav Bhaji recipe

उत्तराखंड गांव की सांस्कृतिक परंपरा चक्रव्यूह

जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने बताया की उत्तराकाशी के मांडो,कंकराड़ी,पनवाड़ी और निराकोट गांव में रविवार रात बादल फटने की घटना से ग्रामीण का काफी नुकासन हुआ है। हम इस नुकासन का आकलन कर रहे है।

इस बीच प्रभावित लोगों को तत्काल मदद के तौर पर जो भी सहयोग चाहिए वह किया जा रहा है। आपदा प्रभावित ग्रामीणों की मदद के लिए तमाम सामाजिक संगठन भी आगे आए है। इस क्रम हंस फाउंडेशन की तरफ से आपदा पीड़ितों तक राहत सामग्री पहुंची है।

इस आपदा में कंकराड़ी गांव में जयेंद्र पंवार, मोहन सिंह, बलवीर सिंह, शूरवीर सिंह, सुरेंद्र सिंह, विक्रम सिंह, केशर सिंह, छोटे लाल, धर्म सिंह, राम सिंह, लक्ष्मण सिंह, उत्तम सिंह, गुलाब सिंह, धन सिंह के मकान भूस्खलन की जद में आ गए हैं। इन परिवारों ने गांव के दूसरे परिवारों के यहां शरण ली है, जबकि मांडो गांव में 30 से अधिक परिवारों ने गांव में परिचितों के यहां शरण ली है। वहीं जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने खतरे की जद में आए आवासीय मकानों को खाली करवाने तथा निकट के सरकारी भवनों में शिफ्ट करने के निर्देश दिए हैं।

आपदा की स्थिति में इन नंबरों पर करें फोन
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस मौके पर लोगों से अपील की हैं की आप किसी भी आपदा की स्थिति में आपदा की सूचना राज्य आपदा नियंत्रण कक्ष के फोन नंबरों 0135-2710334, फैक्स नंबर 0135-2710335, टोल फ्री नंबर 1070, 9557444486 पर तत्काल सूचना देंगे। साथ ही पीड़ित या अन्य कोई भी व्यक्ति इन नंबरों पर फोन कर किसी भी दुर्घटना की सूचना दे सकता है।

Documentary film

World’s Highest lord Shiva temple Uttarakhand

Leave a Reply