उत्तराखंड में भू-कानून बनाने को लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना

उत्तराखंड में भू-कानून की माँग को लेकर मंगलवार 20 जुलाई को उत्तराखंडियों के पुश्तैनी हक़-हकूक और वनाधिकार बहाली के लिये उत्तराखंड वासियों ने और केन्द्र सरकार को जगाने के लिए दिल्ली के जन्तर-मंतर पर सांकेतिक धरना दिया।

आन्दोलनकारियों ने माँग की माँग है जिस प्रकार से अन्य हिमालयी राज्यों में ज़मीन को बचाने का कानून है उसी की तरह उत्तराखंड के लिये भी कानून बने जिससे वहाँ के जन, जल, जंगल व ज़मीन को बचाया जा सके।

 

वनाधिकार क़ानून-2006 को राज्य में लागू किया जाय और वनाधिकार क़ानून की भावना के अनुरूप उत्तराखंडियों को वनों पर उनके विरासती सामुदायिक और व्यक्तिगत अधिकारों व हक़-हकूकों को उन्हें वापस किया जाय।

धरने पर बैठे आन्दोलनकारियों ने कहा राज्य की 91% भूमि उत्तराखंडियों ने राष्ट्र व मानवता की रक्षा के लिये समर्पित कर रखी है। मात्र 9% भूमि पर वहाँ के निवासी गुज़र-बसर कर रहे हैं। राज्य के निवासियों को इस भूमि को वापस किया जाय या उसकी क्षतिपूर्ति दी जाय।

क्षतिपूर्ति के रूप में वहाँ के निवासियों को Forest Dweller घोषित किया जाय और देश के अन्य भागों के Forest Dwellers को जो सुविधायें दी जा रही हैं, उत्तराखंडियों को भी दी जायँ।

जिसमें वहाँ के निवासियों को क्षतिपूर्ति के रूप में राज्य के निवासियों को बिजली, पानी व रसोई गैस निशुल्क दी जाय। परिवार के एक सदस्य को योग्यतानुसार पक्की सरकारी नौकरी दी जाय।

इन्हें भी पढ़ें-

सावन को सबसे पवित्र महीना क्यों कहा गया जानिए

अपने घर के मंदिर में पूजा और ध्यान रखने वाली जरूरी बातें

लौंग के फायदे | 14 Benefits Of Cloves

पाव भाजी रेसिपी भारतीय स्वादिष्ट व्यंजन | Pav Bhaji recipe

उत्तराखंड गांव की सांस्कृतिक परंपरा चक्रव्यूह

पितर कौन होते हैं और तर्पण किन को दिया जाता जाने

केंद्र व राज्य सरकार से अनुरोध कर रहे हैं कि इन जायज़ माँगों को तुरन्त स्वीकार किया जाय, बल्कि विधान सभा चुनावों से पहले इस पर निर्णय लिया जाय।

आंदोलनकारियों ने कहा हमें पुलिस द्वारा अनुमति नही मिली है लेकिन अनुमति न मिलने के बावजूद हम धरने पर बैठे, आने वाले दिनों में इस मुहीम को आगे बढ़ाने के लिये जन संगठनों, सामाजिक संगठनों और राजनैतिक दलों को भी जोड़ने का काम किया जायेगा और भविष्य के आन्दोलन की रूप रेखा बनायी जायेगी।

Documentary film

World’s Highest lord Shiva temple Uttarakhand

धरना की अध्यक्षता उत्तराखंड कांग्रेस के पूर्व मंत्री एवं पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने की। इस मौके पर उपस्थित अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सह सचिव हरीपाल रावत,उत्तराखंड आंदोलनकारी एवं समाजसेवी अनिल कुमार पंत “आम आदमी पार्टी” के प्रताप थलवाल, राजेंद्र भंडारी,राजेश राणा, वरिष्ठ साहित्यकार रमेश चंद्र घिल्डियाल, वरिष्ठ पत्रकार अमर चंद,वरिष्ठ समाजसेवी अजय सिंह बिष्ट, राकेश नेगी,राधा आर्य,रजनी जोशी ढौंढियाल, मंजू रतूड़ी, हर्ष वर्धन खंडूरी,सूरज प्रहरी,उमा जोशी,अजय शर्मा, कृष्णा जीपिएस रावत धरने में शामिल हुए।

Leave a Reply