एक पेड़ पुरानी पेंशन के नाम से अभियान चला कर, पुरानी पेंशन बहाली की रखी मांग

राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा (NOPRUF) के आवाह्न पर 12 जुलाई को उत्तराखंड में वृक्षारोपण कार्यक्रम के तहत “एक पेड़ पुरानी पेंशन के नाम” अभियान चला कर पुरानी पेंशन बहाली की मांग रखी।

प्रदेश अध्यक्ष अनिल बडोनी ने जनपद टिहरी से अभियान की शुरुआत करते हुए पौधा रोपित करते हुए कहा कि नई पेंशन से आच्छादित कार्मिकों के साथ सरकार अनदेखी कर रही है , सेवानिवृति उनके लिए एक अभिशाप बन चुकी है ।

पौड़ी से कार्मिकों द्वारा प्रांतीय महासचिव सीताराम पोखरियाल के नेतृत्व में बनी पेंशन वाटिका में पौधे रोपित किए। उन्होंने कहा कि विगत वर्ष के पौधे सुरक्षित हैं साथ ही पुनः इस वर्ष नए पौधे लगाकर पर्यावरण संरक्षण के माध्यम से सरकार को यह संदेश दिया जा रहा है कि एक वृक्ष जिस तरह से अनेकों फल प्रदान करता है।उसी प्रकार से कार्मिक सेवा के दौरान आयकर , राहतकोष योगदान व सेवानिवृति के बाद पाए गए धन को निवेश करता है जिससे देश की अर्थव्यवस्था को बल मिलता है। कार्मिकों की पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू होनी अति आवश्यक है

इन्हें भी पढ़ें-

Mouth ulcers मुंह के छालों का घरेलू 9 उपाय जरुर आजमायें

एलोवेरा जेल का चेहरे और बालों पर उपयोग

सिंपल वेज बिरयानी रेसिपी | Easy Veg Biryani Recipe

उत्तराखंड गांव की सांस्कृतिक परंपरा चक्रव्यूह

पितर कौन होते हैं और तर्पण किन को दिया जाता जाने

प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ० डी० सी० पसबोला ने वृक्षारोपण कर सन्देश दिया कि जिस प्रकार हरियाली का जीवन में महत्व है, उसी प्रकार पुरानी पेंशन से सेवानिवृति के बाद कार्मिक के जीवन में हरियाली बनी रहती है। एनपीएस कार्मिकों द्वारा लगाया गया हर वृक्ष पुरानी पेंशन बहाली के संकल्प वृक्ष का प्रतीक है। अतः कार्मिकों के निवेदन को स्वीकार कर सरकार तुरन्त पुरानी पेंशन बहाल करे।

प्रदेश महिला उपाध्यक्ष योगिता पन्त ने कहा कि अपने अधीनस्थ कार्मिकों का संरक्षण करना सरकार का धर्म है आज हज़ारों पौधे रोपित करके राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा पुनः इस वर्ष भी संदेश दे रहा है कि प्राणियों की सांस बनी रहे इसके लिए वृक्ष आवश्यक हैं व कार्मिकों की प्राणवायु पुरानी पेंशन को बहाल कर उन्हें भी एक बेहतर भविष्य प्रदान करें।

Documentary film

Himalayan women lifestyle Uttarakhand

 

Leave a Reply