उत्तराखंड कांग्रेस के पूर्व CM हरीश रावत ने क्यों कहा केदारनाथ मंदिर के गर्भ ग्रह की मर्यादा भी टूटी,पढ़ें पूरी खबर

उत्तराखंड: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के केदारनाथ आने पर उत्तराखंड कांग्रेस के पूर्व CM व चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत ने अपने ट्विटर पर ट्वीट किया – देश के आदरणीय प्रधानमंत्री जी के केदारनाथ आगमन का मैंने स्वागत किया था मगर अब मैं निराश हूं क्योंकि उन्होंने उत्तराखंड व आपदा पीड़ित उत्तराखंड के लिए और केदारनाथ क्षेत्र के भविष्य की योजनाओं के विषय में कोई स्वीकृति या नहीं दी कोई धन देने की घोषणा नहीं की, उल्टा प्रधानमंत्री ने हमारी परंपराओं व मान्यताओं को रौंद कर चले गए,

https://livecultureofindia.com/national-राष्ट्रीय-news/कांग्रेस-के-पूर्व-cm-हरीश-रा/

हरीश रावत ने कहा केदारनाथ धाम में बड़े-बड़े नेता आए महामहिम राष्ट्रपति जी भी आए इंदिरा गांधी जी भी आए राहुल गाँधी जी पैदल चल कर के आए मुख्यमंत्री तो केदारनाथ धाम में आते रहे हैं, मैं जब मुख्यमंत्री के तौर पर कई बार केदारनाथ गया हर बार गर्भगृह में भगवान केदार जी के सामने ध्यान हस्त भी रहा लेकिन हमको उसकी फोटो खींचने और लाइव प्रसारित करने की हिम्मत नहीं आई रावल जी और केदारनाथ मंदिर समिति ने जो लक्ष्मण खींची थी हमने हमेशा उसका आधार किया सब ने उसका आदर किया लेकिन इस बार गर्भ ग्रह से प्रधानमंत्री जी ने अपने को लाइव प्रसारित करवाया,

इन्हें भी पढ़ें-

अपने घर के मंदिर में पूजा और ध्यान रखने वाली जरूरी बातें

पहाड़ों की महिलाएं कैसे काम करती-himalayan women lifestyle

सर्दियों में ड्राई स्किन से बचें -10 Tips prevent dry skin

नोनी फल का जूस पीने के 9 फायदे – 9 Benefits of Noni Juice

घर पर बनाएं पाव भाजी रेसिपी- Pav Bhaji recipe

कार्तिक महीना क्यों खास है हिंदू धर्म में-जाने जरूरी जानकारी

त्रिजुगी नारायण मंदिर- world oldest religious Temple-Kedarnath

फेसबुक लाइव और अन्य दूसरे चैनलों में यह सब कुछ टेलीकास्ट हुआ मंदिर के प्रांगण से राजनीतिक उद्देश्य को लेकर भाषण किया गया और उसको सरकारी समाचार माध्यमों से प्रसारित किया गया अब मैं अपने उन साथियों की सलाह के लिए उनको धन्यवाद देता हूं जिन्होंने मुझे कहा कि आप उनके आगमन का स्वागत कर गलत कर रहे हो वास्तव में गलती हो गई है

केदारनाथ धाम में गर्भ ग्रह की मर्यादा भी टूटी देवस्थान में राजनीति ना हो सकी ना हो उसकी भी मर्यादा टूटी मगर शिकायत करें तो किस से करें उल्टा उत्तराखंड को कुछ हासिल नहीं हुआ ना आपदा को लेकर उत्तराखंड में कोई सहायता दी गई और न केदारनाथ में रोपवे सहित किसी भी प्रकार की कोई निर्माण कार्य की स्वीकृति प्रदान की गई बाबा केदार क्षमा करें,

Documentary film 

Village Life Celebration Documentary PART-1- how to celebration Diwali in Uttarakhand village