कारगिल विजय दिवस 2021 राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री सहित पूरे देश ने दी शहीदों को श्रद्धांजलि

आज कारगिल विजय दिवस 2021 की 22वीं सालगिरह है पूरा देश आज करगिल विजय दिवस (Kargil vijay diwas) की 22वीं सालगिरह मना रहा है भारत हर साल 26 जुलाई को ‘करगिल विजय दिवस’ मनाता है इस दिन 1999 में भारतीय सेना ने पाकिस्तान के खिलाफ जीत हासिल की थी। मातृभूमि की रक्षा करते हुए अपना सर्वस्व न्योछावर करने वाले देश के अमर बलिदानी जवानों को पूरा देश श्रद्धांजलि देता है

इस दोरान राष्ट्रपति कोविंद अपने चार दिवसीय दौरे पर जम्मू-कश्मीर और लद्दाख पर हैं राष्ट्रपति ने कारगिल विजय दिवस समारोह में भाग लेने के लिए करगिल युद्ध स्मारक पहुंचना था खराब मौसम के चलते राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद कारगिल विजय दिवस समारोह में हिस्सा नहीं ले पाए और उन्होंने जम्मू-कश्मीर: कारगिल विजय दिवस के अवसर पर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने बारामूला के डैगर युद्ध स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की।

 https://livecultureofindia.com/national-राष्ट्रीय-news/कारगिल-विजय-दिवस-2021/

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कारगिल विजय दिवस पर हमारे देश की रक्षा करते हुए कारगिल में शहीद हुए सभी लोगों को श्रद्धांजलि दी है।

प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा;

“हम उनके बलिदानों को याद करते हैं।

हम उनकी वीरता को याद करते हैं।

आज, कारगिल विजय दिवस पर हम उन सभी को श्रद्धांजलि देते हैं जिन्होंने हमारे देश की रक्षा करते हुए कारगिल में अपनी जान गंवाई। उनकी बहादुरी हमें हर एक दिन प्रेरित करती है।

साथ ही पिछले साल के ‘मन की बात’ का एक अंश भी साझा कर रहा हूं।”

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने लिखा,कारगिल विजय दिवस पर इस युद्ध के सभी वीर सेनानियों का स्मरण करता हूँ। आपके अदम्य साहस, वीरता और बलिदान से ही कारगिल की दुर्गम पहाड़ियों पर तिरंगा पुनः गर्व से लहराया। देश की अखंडता को अक्षुण्ण रखने के आपके समर्पण को कृतज्ञ राष्ट्र नमन करता है।

इन्हें भी पढ़ें-

सावन को सबसे पवित्र महीना क्यों कहा गया जानिए

अपने घर के मंदिर में पूजा और ध्यान रखने वाली जरूरी बातें

लौंग के फायदे | 14 Benefits Of Cloves

Deepawali 2021 | दीपावली कब है | दिवाली में लक्ष्मी पूजा शुभ मुहूर्त

करगिल विजय दिवस के अवसर पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह नई दिल्ली में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक सैनिकों को श्रद्धांजलि दी और लिखा करगिल विजय दिवस के अवसर पर, मैंने नई दिल्ली में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का दौरा किया और उन बहादुर सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की जिन्होंने बहादुरी से लड़ाई लड़ी और देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। उनका सर्वोच्च बलिदान हमेशा याद किया जाएगा और आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करेगा।

 

Documentary film

World’s Highest lord Shiva temple Uttarakhand