किसानों के लिए खबर, घर बैठे मछली पालन का व्यवसाय सीखे,भारत सरकार का Matsya Setu ऐप पर

नयी दिल्ली,किसानों के लिए खबर  मछली पालक किसानों के लिए के लिए 06 JUL 2021 को केंद्रीय मत्स्य, पशुपालन और डेयरी मंत्री गिरिराज सिंह ने ऑनलाइन पाठ्यक्रम मोबाइल ऐप ‘मत्स्य सेतु’ लॉन्च किया,उन्होंने बताया Matsya Setu मोबाइल ऐप किसानों के बहुत काम आएगा। वह इस ऐप के जरिए नई तकनीक के बारे में बेहतर तरीके से समझ सकेंगे और इससे मछली पालक किसानों का विकास होगा।

Matsya Setu ऐप को भाकृअनुप-केंद्रीय मीठाजल जीवपालन अनुसंधान संस्थान (भाकृअनुप -सीफा), भुवनेश्वर द्वारा राष्ट्रीय मत्स्य विकास बोर्ड (एनएफडीबी), हैदराबाद के वित्त पोषण समर्थन के साथ विकसित किया गया हैं।

https://livecultureofindia.com/national-राष्ट्रीय-news/किसानों-के-लिए-खबर/

गिरिराज सिंह ने कहा इस ऑनलाइन पाठ्यक्रम ऐप का शुभारंभ समय की मांग है। यह ऐप किसानों को उनकी सुविधानुसार प्रौद्योगिकियों और बेहतर प्रबंधन पद्धति में प्रगति सीखने में निश्चित रूप से मददगार साबित होगा। उन्नत तकनीकों को सीखना निश्चित रूप से मछली पालन में वैज्ञानिक तरीकों को अपनाने को प्रभावित करेगा,

इससे उत्पादकता में वृद्धि होगी, और आय में सुधार होगा। यह ऐप देश भर में हितधारकों, विशेष रूप से मछुआरों, मछली किसानों, युवाओं और उद्यमियों के बीच विभिन्न योजनाओं पर नवीनतम जानकारी का प्रसार करने, उनकी सहायता करने और व्यापार करने में आसानी की सुविधा के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण भी हो सकता है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि ऐप किसानों के लिए सीखने के लिए एक अद्भुत मंच के रूप में काम करेगा।

मत्स्य सेतु ऐप में प्रजाति-वार / विषय-वार स्व-शिक्षण ऑनलाइन पाठ्यक्रम मॉड्यूल हैं, जहाँ प्रसिद्ध जलकृषि विशेषज्ञ कार्प, कैटफ़िश, स्कैम्पी जैसी व्यावसायिक रूप से महत्वपूर्ण मछलियों के प्रजनन, बीज उत्पादन और ग्रो-आउट संवर्धन पर बुनियादी अवधारणाओं और व्यावहारिक प्रदर्शनों की व्याख्या करते हैं।

इन्हें भी पढ़ें-

आयुर्वेद में हार्ट अटैक का उपाय

एलोवेरा जेल का चेहरे और बालों पर उपयोग

नोनी जूस के 9 फायदे – 9 Benefits of Noni Juice

मर्रेल, सजावटी मछली, मोती की खेती आदि। मिट्टी और पानी की गुणवत्ता को बनाए रखने के लिए बेहतर प्रबंधन पद्धतियों का पालन करना, जलकृषि कार्यों में भोजन और स्वास्थ्य प्रबंधन भी पाठ्यक्रम मंच में प्रदान किया गया। अतिरिक्त शिक्षण सामग्री के साथ, मॉड्यूल को शिक्षार्थियों की सुविधा के लिए छोटे वीडियो अध्यायों में विभाजित किया गया है।

शिक्षार्थियों को प्रेरित करने और एक जीवंत सीखने का अनुभव प्रदान करने के लिए, स्व-मूल्यांकन के लिए प्रश्नोत्तरी / परीक्षण विकल्प भी प्रदान किए गए हैं। प्रत्येक पाठ्यक्रम मॉड्यूल के सफल समापन पर, एक ई-प्रमाण पत्र स्वतः उत्पन्न किया जा सकता है। किसान ऐप के माध्यम से भी अपनी शंकाएं पूछ सकते हैं और विशेषज्ञों से विशिष्ट सलाह प्राप्त कर सकते हैं।

Documentary film

उत्तराखंड पहाड़ों में कैसे रहते हैं  PART-4

 

Leave a Reply