किसान आंदोलन: जंतर मंतर लगेगी किसनों की ‘किसान संसद’

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहा किसान आंदोलन आज 22 जुलाई को संसद मार्च करेंगे इसका एलान उन्होंने पहले ही कर दिया था।प्रदर्शन के लिए प्रतिदिन सिंघु बॉर्डर से 200 किसान जंतर-मंतर जाएंगे। संसद के मानसून सत्र के बीच तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली में इस दौरान टिकरी बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डर जंतर-मंतर पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने कहा, पार्लियामेंट में रहकर ही विपक्ष किसानों की बात को मजबूती से उठायें मैं जंतर-मंतर जाऊंगा। हम जंतर मंतर पर ‘किसान संसद’ करेंगे। हम संसद की कार्यवाही की निगरानी करेंगे

किसान नेता प्रेम सिंह भंगू ने कहा, ”हम वहां विस्तार से चर्चा करेंगे, हम स्पीकर भी बनाएंगे, चर्चा होगी और प्रश्नकाल भी होगा। 200 से अधिक किसान नहीं जाएंगे।

किसान नेता मंजीत सिंह राय ने कहा 200 किसान संसद के आगे कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन के लिए जाएंगे। जंतर मंतर पर हमारी बसें रुकेंगी वहां से हम पैदल जाएंगे। जहां पर भी हमें पुलिस रोकेगी वहीं पर हम अपनी संसद लगाएंगे। जिन किसानों के आईकार्ड बन गए हैं वे आगे जाएंगे

वहीं आज कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कृषि कानून के खिलाफ संसद भवन परिसर में नए कृषि क़ानूनों को रद्द किए जाने के विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया।

 https://livecultureofindia.com/national-राष्ट्रीय-news/किसान-आंदोलन-जंतर-मंतर/

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा आज किसानों द्वारा कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ जंतर मंतर पर होने वाले विरोध प्रदर्शन पर हम किसानों के मुद्दों को सदन में उठा रहे हैं। किसान हमारी रीढ़ की हड्डी है। किसानों के बिना हम जी नहीं सकते। उस आवाज को उठाना ज़रूरी है और हम उठाएंगे
कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी, ने कहा कांग्रेस पार्टी किसानों के प्रदर्शन और आंदोलन का पूर्ण रूप से समर्थन करती है और इस मुद्दे पर सदन में चर्चा हो, इसके लिए मैंने स्थगन प्रस्ताव को सदन के स्पीकर को दिया है

शिरोमणि अकाली दल के नेता हरसिमरत कौर बादल ने किसानों के विरोध प्रदर्शन पर कहा, यह सरकार किसान विरोधी है। किसान पिछले 8 महीनों से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार कहती है कि किसान हमसे बात करें लेकिन क़ानून वापस नहीं होंगे। जब आप ने कृषि क़ानून वापस नहीं लेने है तो किसान आपसे क्या बात करेंगे