गृह मंत्री अमित शाह का 24 अक्टूबर 2021को जम्मू-कश्मीर यात्रा के दूसरे दिन

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अपनी जम्मू-कश्मीर यात्रा के दूसरे दिन आज जम्मू में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) के नए कैंपस का उद्घाटन किया। 210 करोड़ रूपये की लागत से बने IIT जम्मू के नए कैंपस में छात्रों की उच्च शिक्षा के साथ-साथ अच्छे छात्रावास, जिमनेज़ियम (Gymnasium) और इंडोर गेम्स जैसी सभी सुविधाएँ उपलब्ध हैं। अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर की विभिन्न विकास परियोजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास भी किया। इस अवसर पर जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, केन्द्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान और प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह समेत अनेक गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।

अपने संबोधन में अमित शाह ने कहा किआज एक पवित्र दिन है, पंडित प्रेमनाथ डोगरा जी का जन्मदिन है और सिर्फ़ जम्मू ही नहीं बल्कि पूरे भारत के लोग प्रेमनाथ डोगरा जी को कभी भुला नहीं सकते। ये वो महान शख़्सियत थी जिन्होंने प्रजा परिषद की स्थापना करके, श्यामा प्रसाद जी के साथ, एक देश में दो निशान, दो विधान और दो प्रधान नहीं चलेंगे, का नारा दिया।

इन्हें भी पढ़ें-

शिवलिंग की महत्ता उनकी रचना और रूपों का निर्माण

Natural Protein Facial Peck for Dry Skin | नेचुरल फेस पेक

दिल को रखें फिट रखने के लिए अपने खाने की डाइट में इन्हें शामिल करें

अमित शाह ने कहा कि अब जम्मू निवासियों के साथ अन्याय का समय समाप्त हो गया है और अब कोई आपके साथ अन्याय नहीं कर सकता। आपने सालों तक अन्याय झेला है लेकिन अब जम्मू और कश्मीर का विकास एक साथ होगा और दोनों मिलकर भारत को आगे बढ़ाने के लिए एक साथ प्रयत्न करेंगे। उन्होंने कहा कि आज यहां पर जो विकास का युग शुरू हो रहा है, इसमें ख़लल पहुंचाने वाले ख़लल डाल रहे हैं। लेकिन मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि जम्मू-कश्मीर के विकास को कोई रोक नहीं पाएगा।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि 5 अगस्त 2019 को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने एक ऐतिहासिक निर्णय किया, सालों से चली आ रही एक अन्यायी धारा को ख़त्म किया, 370 और 35ए हटीं और जम्मू कश्मीर के लाखों नागरिकों को अपने अधिकार प्राप्त हुए। पहले लोगों को भूमि ख़रीदने का अधिकार नहीं था, जो शरणार्थी वहां से यहां आए थे उनके अधिकार नहीं थे, लोगों को आरक्षण नहीं मिलता था। लेकिन, अब किसी को डरने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि भारतीय संविधान के सभी अधिकार अब सबको मिलने वाले हैं। महिलाओं को भी उनके अधिकार दिए गए, श्रमिकों के हितों की रक्षा के लिए मिनिमम वेज एक्ट लागू किया, सफ़ाई कर्मचारी एक्ट लागू किया, दलितों और आदिवासियों के अधिकारों और हितों की रक्षा और अत्याचार रोकने के लिए सख़्त क़ानून लाए, आदिवासियों को ज़मीन के पट्टे का अधिकार भी नरेन्द्र मोदी सरकार ने दिया।

अमित शाह ने कहा कि आज यहां ढेर सारी योजनाओं का उद्घाटन हुआ है। एक ज़माना था जब जम्मू कश्मीर में सिर्फ़ चार मेडीकल कॉलेज थे और आज जम्मू कश्मीर में सात नए मेडीकल कॉलेज की स्थापना हो चुकी है, जिनमें से पांच शुरू हो चुके हैं। पहले 500 मेडीकल की सीटें थी, अब 2000 छात्र यहां से एमबीबीएस कर सकते हैं और किसी को कहीं जाने की ज़रूरत नहीं है। आज जिस आईआईटी के कैपंस का उद्घाटन यहां हुआ है वैसा आधुनिक आईआटी का कैंपस मैंने नहीं देखा। आईआईटी, आईआईएम और एम्स तीनों संस्थान मिलकर नए प्रकार के कोर्स की रचना करके एक दूसरे के पूरक कैसे बनेंगे, इसकी भी चिंता की गई है। सैटेलाइट कैंपस खोलकर जम्मू-कश्मीर के बच्चों की ट्रेनिंग पर भी बात हुई जिससे ज़्यादा से ज़्यादा जम्मू-कश्मीर के बच्चों का दाख़िला आईआईटी में हो जाए।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि अगर 45 हज़ार युवा जम्मू कश्मीर के ग़रीबों की सेवा में लगते हैं, तो दहशतग़र्द कुछ नहीं बिगाड़ सकते और ये युवा देखते देखते जम्मू-कश्मीर को बदल देंगे। इसके अलावा 25 हज़ार सरकारी नौकरियां सर्विस सेलेक्शन बोर्ड द्वारा दे दी गई हैं जिनमें से 7 हज़ार लोगों को अलग-अलग नियुक्ति पत्र आज इसी मंच पर दिए गए हैं।

अमित शाह ने कहा कि निवेश के चलते 5 लाख नए रोज़गार उत्पन्न होने वाले हैं। अब तक जम्मू में सात हज़ार और कश्मीर में पांच हज़ार करोड़ के निवेश का भूमि का आवंटन कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि जब हम नई औद्योगिक नीति लेकर आए तब ये तीन परिवार वाले, जिन्होंने सालों तक आपका शोषण किया है, मज़ाक़ उड़ाते थे कि यहां कौन आएगा। लेकिन ये मोदी जी का कमाल है कि अब तक 12 हज़ार करोड़ रूपए का निवेश आ गया है और 2022 से पहले 51 हज़ार करोड़ का निवेश आ जाएगा। इससे जम्मू के 5 लाख युवाओं को नौकरी मिलेगी। नौ मेडीकल कॉलेज, 15 नर्सिंग कॉलेज, आईआईटी, एनआईटी, आईआईएम, निफ़्ट, आईआईएमसी, दो कैंसर इंस्टीट्यूट, पॉलीटेक्नीक, बीएससी नर्सिंग कॉलेज जैसे ढेर सारे संस्थान यहां बनाए और शुरू किए गए हैं। शाह ने कहा कि तीन परिवारवालों ने मुझसे सवाल पूछा कि यहां की जनता को क्या देकर जाएंगे। मैं तो हिसाब लेकर आया हूं कि क्या देकर जाएंगे, लेकिन 70 साल के आपके तीन परिवारों के राज ने क्या दिया, उसका हिसाब लाओ।

जम्मू-कश्मीर की जनता आपका हिसाब मांग रही है। उन्होंने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री बनते ही 55000 करोड़ रूपए का पैकेज दिया था जिसमें से 35 हज़ार करोड़ रूपए ख़र्च हो चुके हैं और 21 योजनाएं पूरी हो चुकी हैं, और आप हमारा हिसाब मांगते हो। उन्होंने पूछा कि आपने अपने परिवार के अलावा किसी और की चिंता की है क्या। ये मोदी जी का शासन है, ना किसी के साथ अन्याय होगा और ना किसी का तुष्टिकरण होगा।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि कुछ लोग सुरक्षा के बारे में सवाल उठाते हैं उनको मैं कुछ आंकड़े देना चाहता हूँ। 2004-2014 के बीच में 2081 नागरिकों की मृत्यु हुई, प्रति वर्ष 208 नागरिक मारे गए। 2014 से सितंबर 2021 तक 239 नागरिकों ने दुर्भाग्यपूर्ण तरीक़े से जान गंवायी है जो कि 208 की जगह प्रतिवर्ष30है। श्री अमित शाह ने कहा कि हम ऐसी स्थिति का निर्माण करना चाहते हैं जिसमें यहाँएक भी व्यक्ति की जान न जाए और दहशतगर्दी पूर्णतः समाप्त हो जाए।

इन्हें भी पढ़ें-

छठ पूजा में किन की पूजा होती और कैसे मनाते हैं

Deepawali 2021 | दिवाली में लक्ष्मी पूजा शुभ मुहूर्त

चम्बा उत्तराखंड का खुबसूरत पर्यटक स्थल में से एक है

अपने घर के मंदिर में पूजा और ध्यान रखने वाली जरूरी बातें

अमित शाह ने कहा कि अनुसूचित जनजाति के लोगों के लिए आरक्षण नहीं था। अनुसूचित जाति और जनजाति के लिए सीटें आरक्षित होने वाली है और इसके लिए आयोग बन गया है, अन्य पिछड़ा वर्ग की जातियाँ तय होने वाली है। श्री शाह ने कहा कि पहाड़ी जनजाति समुदायों के लिए 4 प्रतिशत आरक्षण दे दिया गया है और अब उनका नुमाइंदा विधानसभा में गौरव के साथ बैठेगा और मंत्री बनकर आपके बीच में आएगा। अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास बसने वाले लोगों के लिए भी आरक्षण कर दिया गया है और गुर्जर भाइयों के लिए भी कुछ ही समय में आरक्षण की व्यवस्था हो जाएगी।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि दिल्ली से कटरा तक अमृतसर के रास्ते छः लेन एक्सप्रेस वे पर काम चल रहा है।आज़ादी के बाद पहली बार जम्मू में पर्यटन पर ध्यान केंद्रित करने का काम किया गया है और धार्मिक पर्यटन सर्किटों का विकास हो रहा है। उन्होंने कहा कि सिर्फ़ जम्मू क्षेत्र में ही इस साल मार्च महीने में देश विदेश के करीब62,000 यात्री आए हैं जोकि अब तक का रिकॉर्ड है।श्री अमित शाह ने कहा कि पहले जम्मू के लोगों को अपने बच्चों को मेट्रो में बैठाने के लिए दिल्ली जाना पड़ता था। उन्होंने कहा कि 2 साल बाद आपको अपने बच्चों को मेट्रो में बैठाने के लिए दिल्ली नहीं ले जाना पड़ेगा क्योंकि मेट्रो ही जम्मू में आ जाएगी। जम्मू और श्रीनगर में मेट्रो की शुरुआत होने वाली है। उन्होंने कहा कि जम्मू एयरपोर्ट के लिए बहुत बड़ी भूमि आवंटित कर दी गई और 700 करोड़ रुपये से यहां एयरपोर्ट का विकास होगा। केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि कल एक हेलीकॉप्टर नीति की घोषणा की गई है जिसके तहत जम्मू कश्मीर सरकार हर ज़िले में हेलीपैड बनाएगी। निजी क्षेत्र के लोग इसमें निवेश करेंगे और इससे अलग अलग क्षेत्रों को आपस में जोड़ा जाएगा।

अमित शाह ने कहा कि जम्मू कश्मीर के गांवों में बिजली पहुँचाने के लिए चार साल में मोदी सरकार ने जल विद्युत परियोजनाओं पर 35,000 करोड़ रुपये ख़र्च किए हैं। उन्होंने कहा कि तीन परिवारों ने जिन अनेक परियोजनाओं को कमीशन की वजह से रोके रखा था उन्हें मोदी जी और जम्मू कश्मीर के उप राज्यपाल ने चालू कर दिया है।

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री ने कहा कि कोरोना ने पूरे विश्व को झकझोर दिया था और लोग सोचने लगे थे कि भारत जैसा देश कोरोना का मुकाबला कैसे करेगा।हमारा स्वास्थ्य इंफ्रास्ट्रक्चर थोड़ा कमजोर था मगर मोदी जी ने विश्व में सबसे अच्छे तरीके से कोरोना का मुकाबला किया और सबसे कम मृत्यु दर भारत में रही। उन्होंने कहा कि देश भर में सबसे पहले कोरोना की शत प्रतिशत पहली डोज जम्मू कश्मीर में लगी और दूसरा टीका देने का काम भी 50% से ज्यादा हो पूरा हो चुका है। श्री अमित शाह ने कहा कि मोदी जी प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना लाए हैं जिसके तहत देश के 60 करोड़ गरीबों के5 लाख रुपये तक का सारा स्वास्थ्य खर्चभारत सरकार उठाती है। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर पूरे देश में अकेला ऐसा राज्य है जिसमें यह योजना सिर्फ गरीबों के लिए नहीं है बल्कि जम्मू कश्मीर के हर नागरिक के लिए सेहत और आयुष्मान भारत योजना के तहत 5 लाख रुपये का फायदा हो रहा है। यह बताता है कि मोदी जी के मन में जम्मू कश्मीर के लिए कितना लगाव है।

अमित शाह ने कहा कि सभी घरों में गैस, शौचालय और बिजली पहुंचाई है, साथ ही सभी घरों में रोजगारी पहुंचाने का काम भी शुरू किया है।खादी ग्राम उद्योग बोर्ड के द्वारा मधुमक्खी के बक्से और इलेक्ट्रिक चाक के जरिए लगभग 5 लाख बहनों को काम के साथ जोड़ने का कार्य किया है।केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि सबसे बड़ी बात जम्मू कश्मीर के अंदर ग्रास रूट लेवल पर लोकतंत्र को स्थापित करने का काम इस देश के प्रधानमंत्री ने किया है।श्री अमित शाह ने कहा कि 70 साल तक 3 परिवारों ने जम्मू कश्मीर को क्या दिया, 87 विधायक और 6 सांसद। मोदी जी ने 30000 लोगों को चुने हुए प्रतिनिधि बनाने का काम किया है।

हर गांव के अंदर पंचायत बनी है, हर तहसील के अंदर तहसील पंचायत बनी है, हर जिले के अंदर जिला पंचायत बनी है।उन्होंने कहा कि अब इन तीन परिवारों की दादागिरी नहीं चलेगी।अब मेरा पंच, सरपंच भी भारत सरकार का मंत्री बन सकता है, जम्मू कश्मीर का मुख्यमंत्री बन सकता है।पहाड़ से चुनाव जीतने वाला भी जम्मू कश्मीर का मुख्यमंत्री बन सकता है अब उसे कोई नहीं रोक सकता। श्री शाह ने कहा कि जम्मू कश्मीर के अंदर लोकतंत्र को प्रस्थापित करने का काम श्री नरेंद्र मोदी जी ने किया है और लोकतंत्र प्रस्थापित होते ही जम्मू-कश्मीर में फिर से एक बार सामान्य स्थिति पैदा होगी।

Documentary film 

Nirankar Dev Pooja in luintha pauri garhwal Uttarakhand

अमित शाह ने कहा कि हम सभी का एक स्वप्न था कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी का स्वप्न पूरा हो और उन्होंने जिस चीज़ के लिए बलिदान दिया उसे हम अपने जीवन में आप देख पाए। मोदी जी के कारण ही आज हम वह दिन देख पाए हैं और आज श्यामा प्रसाद मुखर्जी का स्वप्न पूरा हो रहा है। उन्होंने कहा कि मोदी जी ने विकास की जो प्रक्रिया शुरू की है जम्मू के लोग उसमे चट्टान की तरह साथ खड़े हैं। केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि जम्मू कश्मीर के अंदर विकास का जो युग शुरू हुआ है उसे कोई रोक नहीं सकता। उन्होंने कहा कि मैं विश्वास दिलाता हूँ कि जम्मू-कश्मीर की शांति में खलल डालने वालों को हम कभी सफल नहीं होने देंगे।

Leave a Reply