चारधाम में नहीं हो पा रही ब्रह्म मुहूर्त में पूजा, अब इसके विरोध में उतरे तीर्थ पुरोहित

उत्तराखंड: चारधाम में एक धाम बदरीनाथ धाम के ब्रहमकपाल तीर्थ पुरोहित संगठन ने मंदिरों में पूजा प्रक्रिया के समय में किये गये बदलाव पर नाराजगी व्यक्त की है।

तीर्थ पुरोहितों ने कहा है मंदिरों में पौराणिक परम्पराओं के अनुसार बदरीनाथ और नृसिंह मंदिर में पौराणिक काल से ब्रहम मुहूर्त में चार बजे पूजा की जाती थी, लेकिन कोविड गाइड लाइनों नियमावली के अनुसार मंदिरों में पूजा-अर्चना के समय में भी बदलाव किया गया है। वहीं देवस्थानम के कर्मचारियों की ओर से कोविड नियमों का हवाला देते हुए इन दिनों सात बजे मंदिर खोला जा रहा है।

https://livecultureofindia.com/national-राष्ट्रीय-news/चारधाम-में-पूजा/

संगठन ने सरकार से कोविड गाइड लाइनों के साथ मंदिरों में पौराणिक परम्पराओं के अनुसार पूजा-अर्चना करवाने की मांग उठाई है। बदरीनाथ और नृसिंह मंदिर में पौराणिक काल से ब्रहम मुहूर्त में चार बजे से ही पूजा होती चली आ रही है वहीं देवस्थानम के कर्मचारियों की ओर से कोविड नियमों का हवाला देते हुए इन दिनों सात बजे मंदिर खोला जा रहा है। जोकि ठीक नही है हम इसका विरोध करते है

कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिये उत्तराखंड सरकार की ओर से कोविड कफ्र्यू की निर्धारित नियमावली में जहां मंदिरों में दर्शन प्रक्रिया पर रोक लगाई गई है। वहीं नियमावली के अनुसार मंदिरों में पूजा-अर्चना के समय में भी बदलाव किया गया है। ऐसे में मंदिरों में पौराणिक काल से धार्मिक मान्यताओं के अनुरुप ब्रहम मुहुर्त में होने वाली पूजा अर्चना समय से नहीं हो पा रही हैं।

ऐसे में ब्रहमकपाल तीर्थ पुरोहित संगठन की ओर से कोविड के नाम पर परम्पराओं को बदलने के निर्णय पर नाराजगी व्यक्त की गई है। शंकराचार्य मठ के तीर्थ पुरोहित ऋषि प्रसाद सती का कहना है कि सरकार की ओर से कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिये मंदिरों में दर्शन प्रक्रिया रोकने का समर्थन किया जा रहा है। लेकिन सीमित संख्या में मंदिर में होने वाली नित्य पूजा-अर्चना के लिये समय में परिर्वतन धार्मिक मान्यताओं के अनुरुप नहीं है।

सरकार को नियमों में बदलाव कर धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मंदिरों में पूजा-अर्चना करवानी चाहिए। उन्होंने कहा कि पौराणिक काल से ही बदरीनाथ और नृसिंह मंदिर में ब्रहम मुहूर्त में चार बजे बजे पूजा करने की परम्परा है। लेकिन वर्तमान में कोविड नियमों का हवाला देते हुए मंदिर सात बजे खोले जा रहे हैं। जिससे हिन्दू धर्म में आस्था रखने वाले लोग आहत है|

रिपोर्ट- आर, सी ढौंडियाल

कृपया इन्हें भी पड़ें  

सेहत संबंधित 100 जानकारी

पियें एक गिलास गर्म पानी, दूर करे कई परेशानी

कपड़े से बना मास्क MASK कितना बेहतर

अपने घर के मंदिर में पूजा और ध्यान रखने वाली जरूरी बातें

नारियल की पूजा क्यों की जाती

world oldest religious Temple 

उत्तराखण्ड के पहाड़ी गांव का रहन सहन

सिंपल वेज बिरयानी रेसिपी | Easy Veg Biryani Recipe

चेहरे से मुंहासे हटाए

वीडियो देखें

Documentary Film-तुंगनाथ की यात्रा