टोक्यो पैरालंपिक में अवनि लेखरा ने जीता गोल्ड, योगेश और देवेंद्र सिल्वर मेडल,सुंदर सिंह ने जीता कांस्य पदक

टोक्यो पैरालंपिक में सोमवार का दिन जन्माष्टमी की सुबह भारत के लिए शानदार रहा, टोक्यो पैरालंपिक में भारत की झोली में पहला स्वर्ण पदक आया, भारत की 19 साल की अवनि लेखरा ने शूटिंग में गोल्ड मेडल जीता उन्होंने महिलाओं की 10 मीटर एयर स्पर्धा एसएच-1 में यह स्वर्ण पदक जीता और टोक्यो पैरालंपिक में इतिहास रच दिया, वहीं पैरालंपिक में पुरुषों की डिस्कस थ्रो में योगेश कथुनिया ने रजत पदक अपने नाम किया। देवेंद्र झाझरिया और सुंदर सिंह गर्जुर ने जैवलिन थ्रो (F46 वर्ग) में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए भारत के खाते में दो और मेडल डाल दिए,भाला फेंक स्पर्धा में देवेंद्र झाझरिया सिल्वर मेडल जीतने में सफल रहे।जबकि सुंदर सिंह गुर्जर ने कांस्य पदक पर कब्जा किया।

राष्ट्रपति और  प्रधानमंत्री ने दी खिलाड़ियों को बधाई

हमारे पैरालिंपियनों को राष्ट्र के लिए और अधिक गौरव लाते हुए देखकर प्रसन्नता हुई!

भारत की एक और बेटी हमें गौरवान्वित करती है!
अवनि लेखारा को इतिहास रचने और स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनने के लिए बधाई#Paralympics . भारत आपके शानदार प्रदर्शन से उत्साहित है! आपके अभूतपूर्व पराक्रम के कारण हमारा तिरंगा पोडियम पर ऊंचा उड़ता है

योगेश कथुनिया ने चक्का फेंक में रजत, देवेंद्र झाझरिया और सुंदर सिंह गुर्जर ने भाला फेंक में क्रमश: रजत और कांस्य पदक जीता। बधाई हो! हर भारतीय आपकी सफलता का जश्न मना रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी शुभकामनाएं और लिखा
अभूतपूर्व प्रदर्शन अवनि लेखरा। यह आपके मेहनती स्वभाव और शूटिंग के प्रति जुनून के कारण संभव हुआ। आपको स्वर्ण जीतने के लिए बधाई। यह वास्तव में भारतीय खेलों के लिए एक विशेष क्षण है। आपको भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं

देवेंद्र झाझरिया द्वारा शानदार प्रदर्शन
हमारे सबसे अनुभवी एथलीटों में से एक ने रजत पदक जीता। देवेंद्र लगातार भारत को गौरवान्वित करते रहे हैं। उसे बधाई। उनके भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं

 

Documentary film

village life Uttarakhand India part 5

 

 

Leave a Reply