प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कल 5 फरवरी को करेंगे हैदराबाद का दौरा, स्टैच्यू ऑफ इक्वेलिटी प्रतिमा को करेंगे राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कल 5 फरवरी 2022 को हैदराबाद के दौरे पर रहेंगे। वहां प्रधानमंत्री दोपहर बाद लगभग 2:45 बजे, हैदराबाद के पाटनचेरु में अंतर्राष्ट्रीय फसल अनुसंधान संस्थान के अर्ध-शुष्क उष्णकटिबंधीय (ICRISAT) परिसर का दौरा करेंगे। प्रधानमंत्री आईसीआरआईएसएटी (ICRISAT) की 50 वीं वर्षगांठ समारोह का भी शुभारम्भ करेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी हैदराबाद में शाम को लगभग 5 बजे ‘स्टैच्यू ऑफ इक्वेलिटी'(Statue of Equality) प्रतिमा राष्ट्र को समर्पित करेंगे। 216 फीट ऊंची स्टैच्यू ऑफ इक्वेलिटी प्रतिमा 11वीं सदी के भक्ति शाखा के संत श्री रामानुजाचार्य की याद में बनाई गई है। श्री रामानुजाचार्य ने आस्था, जाति और पंथ सहित जीवन के सभी पहलुओं में समानता के विचार को बढ़ावा दिया था।

यह प्रतिमा ‘पंचलोहा’ से बनी है, जो पांच धातुओं: सोना, चांदी, तांबा, पीतल और जस्ता का एक संयोजन है और दुनिया में बैठने की अवस्था में सबसे ऊंची धातु की मूर्तियों में से एक है। यह 54-फीट ऊंचे आधार भवन पर स्थापित है, जिसका नाम भद्र वेदी’ है। इसमें वैदिक डिजिटल पुस्तकालय और अनुसंधान केंद्र, प्राचीन भारतीय ग्रंथ, एक थिएटर, एक शैक्षिक दीर्घा हैं, जो श्री रामानुजाचार्य के कई कार्यों का विवरण प्रस्तुत करते हैं।

इन्हें भी पढ़ें-

त्रिजुगी नारायण मंदिर, world oldest religious Temple

कन्यादान न किया हो तो तुलसी विवाह करके ये पुण्य अर्जित करें,

सूर्य भगवान की पूजा | benefits of surya pooja

इस प्रतिमा की परिकल्पना श्री रामानुजाचार्य आश्रम के श्री चिन्ना जीयार स्वामी ने की है। कार्यक्रम के दौरान श्री रामानुजाचार्य की जीवन यात्रा और शिक्षा पर थ्रीडी प्रेजेंटेशन मैपिंग का भी प्रदर्शन किया जाएगा। प्रधानमंत्री 108 दिव्य देशम (सजावटी रूप से नक्काशीदार मंदिर) के समान मनोरंजनों का भी दौरा करेंगे जो स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी के चारों ओर बने हुए हैं।

श्री रामानुजाचार्य ने राष्ट्रीयता, लिंग, नस्ल, जाति या पंथ की परवाह किए बिना हर इंसान की भावना के साथ लोगों के उत्थान के लिए अथक प्रयास किया। स्टैच्यू ऑफ इक्वैलिटी का उद्घाटन, श्री रामानुजाचार्य की वर्तमान में चल रही 1000 वीं जयंती समारोह यानी 12 दिवसीय श्री रामानुज सहस्रब्दी समारोहम का एक भाग है।

इन्हें भी पढ़ें-

पहाड़ों की खुबसूरत दिवाली (इगास बग्वाल)

Pimples Treatment,चेहरे से मुंहासे का उपाय

राजगीर बिहार में घूमने लायक एक सुंदर जगह जो कश्मीर की तरह दिखता है

इससे पहले, प्रधानमंत्री अपनी यात्रा के दौरान आईसीआरआईएसएटी (ICRISAT) की 50वीं वर्षगांठ समारोह का शुभारम्भ भी करेंगे। प्रधानमंत्री पौधा संरक्षण पर आईसीआरआईएसएटी के जलवायु परिवर्तन अनुसंधान केंद्र और आईसीआरआईएसएटी की रैपिड जनरेशन एडवांसमेंट केंद्र का भी उद्घाटन करेंगे। ये दो केन्द्र एशिया और उप-सहारा अफ्रीका के छोटे किसानों को समर्पित हैं। प्रधानमंत्री आईसीआरआईएसएटी के विशेष रूप से डिजाइन किए गए प्रतीक चिन्ह का भी अनावरण करेंगे और इस अवसर पर एक स्मारक डाक टिकट भी जारी करेंगे।

आईसीआरआईएसएटी (ICRISAT)एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन है जो एशिया और उप-सहारा अफ्रीका में विकास के लिए कृषि के क्षेत्र में अनुसंधान करता है। यह किसानों को बेहतर फसल की किस्में और संकर प्रजाति प्रदान करके मदद करता है और शुष्क भूमि में छोटे किसानों को जलवायु परिवर्तन से लड़ने में भी मदद करता है।

Documentary film .

 उत्तराखंड पहाड़ों में कैसे रहते हैं भाग 6 ,चोलाई की खेती कैसे करते हैं