फ़िट इंडिया फ्रीडम राइडर बाइकर रैली को केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने 9 सितंबर 2022 को नई दिल्ली में फ़िट इंडिया फ्रीडम राइडर बाइकर रैली को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर गृह और खेल एवं युवा मामलों के राज्यमंत्री श्री निशिथ प्रामाणिक और संस्कृति और विदेश राज्यमंत्री श्रीमती मीनाश्री लेखी सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

अपने संबोधन में अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में पूरा देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है और मोदी जी ने इस अमृत महोत्सव को न केवल आजादी के साथ जोड़ा है, बल्कि इसे बहुआयामी भी बनाया है।ये प्रधानमंत्री मोदी की विचारने की एक नई और बहुआयामी पद्धति का परिचय देता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने जब आजादी का अमृत महोत्सव मनाने की बात देश के सामने रखी तब किसनेसोचा था कि इसके इतने दूरगामी परिणाम आएंगे। लेकिन, इस वर्ष 15 अगस्त को कश्मीर से कन्याकुमारी और द्वारका से लेकर कामाख्या तक पूरे देश में हर घर तिरंगा अभियान के साथ समाज के हर वर्ग का व्यक्ति साथ जुड़ा और देशभक्ति का जो जज़्बा देश में दिखा, उससे पता चला कि मोदी जी आजादी के अमृत महोत्सव को जन जन तक पहुंचाने में सफल हुए हैं।

इन्हें भी पढ़ें

 moongphali khane ke fayde | Amazing benefits of peanuts

लौंग के फायदे in Hindi | 14 Benefits Of Cloves

झटपट 5 मिनट में दही चटनी रेसिपी

नारियल की पूजा क्यों की जाती

आपके किचन में पाचन के लिए ये हैं ये 3 सुपरफूड, डाइट में जरूर करें शामिल रहें हेल्दी

प्रधानमंत्री मोदी ने आजादी के अमृत महोत्सव के तीन लक्ष्य हमारे सामने रखे। पहला,नई पीढ़ी, युवाओं, किशोरों औरबच्चों को आजादी के लंबे और कड़े संघर्ष से परिचित कराना। देश की आजादी के लिए 1857 से लेकर 1947 तक 90 साल के संघर्ष में लाखों जाने-अनजाने शहीदों ने अपना सर्वोच्च बलिदान दिया। उनके बलिदान से हमारी नई पीढ़ी को परिचित कराना और उसके मन में देश, स्वतंत्रता सेनानियों और स्वतंत्रता संग्राम के प्रति समर्पण का भाव पैदा करना। इसका दूसरा लक्ष्य है, 75 साल में हमारे देश द्वारा हासिल की की गई उपलब्धियों प्रति गौरव का भाव पैदा करना। तीसरा लक्ष्य है कि जब 2047 में भारत आजादी की शताब्दी मनाएगा उस वक्त हर क्षेत्र में देश कहां होगा इसके लक्ष्य निर्धारित करके, 75 से 100 साल के बीच के अमृत काल का रास्ता प्रशस्त करना।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने यह जो अमृत काल का समय तय किया है वो आज हर भारतीय के मन में नया जज्बा और हौसला पैदा कर रहा है कि जब आजादी की शताब्दी मनाई जाएगी उस वक्त हमारा भारत हर क्षेत्र में दुनिया में सर्वप्रथम होगा। यह लक्ष्य लेकर आज 130 करोड़ देशवासी भारत को महान बनाने की यात्रा पर निकल चुके हैं।

इन्हें भी पढ़ें

Shradh 2022- 10 सितंबर से शुरू, जानें श्राद्ध की सभी तिथियां

पितर कौन होते हैं और तर्पण किन को दिया जाता, जाने

अगर देहांत की तारीख नहीं है मालूम,तो अपनाएं श्राद्ध के लिए ये तिथि

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि हर घर तिरंगा अभियान के दौरान देशभक्ति का जैसा ज्वार भारत में था, उस प्रकार की देशभक्ति की शायद ही कभी किसी देश ने अनुभूति की होगी। हर घर, वाहन, स्मारक पर तिरंगा लहरा रहा था औरगर्व के साथ साथ लोग तिरंगा फहरा कर अपनी फोटो अपलोड कर रहे थे। यह बताता है कि देश के जन-जन के मन में राष्ट्र के प्रति कितना प्रेम और देशभक्ति की भावना है। आज आजादी के अमृत महोत्सव के तहत 75 मोटरसाइकिलोंपर कुल 120 लोग, जिनमें 10 महिलाएं भी शामिल हैं, भारत के 75 दिन के भ्रमण पर निकल रहे हैं। ये मोटरसाइकिल सवार छह अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं सहित 34 राज्यों और संघशासित प्रदेशों को छुएंगे, 250 से ज्यादा जिलों में जाएंगे और 75 दिनों में 18000 किलोमीटर का लंबा सफ़र तय कर देश के 75 महत्वपूर्ण स्थानों पर आजादी के अमृत महोत्सव का प्रचार करके वापस देश की राजधानी पहुंचेंगे।

इनका यह प्रयास निश्चित रूप से राष्ट्रीय एकता को मजबूत करने वाला और आजादी के अमृत महोत्सव के उद्देश्यों को लोगों तक पहुंचाने में सफल सिद्ध होगा। ये यात्रा फिट इंडिया का मैसेज भी देश के सारे युवाओं को पहुंचाने में सफल होगी। फ्रीडम मोटर राइडर्स विविधता में एकता का संदेश देश में लेकर जाएंगे और जिस राज्य या शहर में जाएंगे, वहां छोटी-छोटी बाइक रैली निकालकर युवाओं के साथ जुड़ेंगे। हजारों युवाओं को इस कार्यक्रम के साथ जोड़ने का प्रशंसनीय प्रयास किया गया है। 24 नवंबर को जब ये यात्रा वापस दिल्ली पहुंचेगी तब एक नई ऊर्जा देश के युवाओं में निश्चित रूप से पहुंचेगी। इन सब मोटरसाइकिल सवारों के जीवन में भी, देश को जानने, 18000 किलोमीटर की यात्रा करने और विविध भाषाओं, भोजन और पहनावे के साथ संपर्क में आने के बाद बहुत परिवर्तन आएगा।

अमित शाह ने कहा कि यह 18000 किलोमीटर की यात्रा गुमनाम शहीदों की अमर गाथा को पुनर्जीवित करने के साथ-साथ नई पीढ़ी में देशभक्ति की भावना जगाने का काम भी करेगी।उन्होंने कहा कि कल ही प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने गुलामी के प्रतीक एक नाम को बदलकर नए कर्तव्य पथ का लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि आप की यह यात्रा हर नागरिक के मन में कर्तव्य के प्रति जागरूकता भी पैदा करेगी।श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने कल अपने भाषण में कहा था कि नए भारत का निर्माण 130 करोड़ नागरिकों के अपने कर्तव्यों के प्रति समर्पण से ही हो सकता है। अधिकार एक मायने में कर्तव्य से ही बनता और जन्म लेता है और जब हम अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हैं, उसी क्षण किसी दूसरे के अधिकारों की पूर्ति भी कर देते हैं। अधिकारों की पूर्ति का सबसे अच्छा रास्ता है कि हर व्यक्ति अपने कर्तव्य का निर्वहन करे और 130 करोड़ लोग जब देशभक्ति की भावना की अभिव्यक्ति करते हुए अपने संवैधानिक कर्तव्यों का पालन करते हैं तो देश को आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता।

Documentary film

पहाड़ी रीति रिवाज Documentary Film on Traditional Culture, गांव में दादाजी की बरसी, PART-1

उत्तराखंड में दिवाली कैसे मनाते हैं | Uttarakhand village Documentary PART-1

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि मोदी जी के नेतृत्व में इस देश को एक नई दिशा और ऊर्जा मिली है और अनेक क्षेत्रों में, जिसकी कल्पना भी नहीं कर सकते थे, देश ने पिछले 8 सालों में वो हासिल किया है। उन्होंने कहा कि 8 साल पहले भारत दुनिया की 11वीं अर्थव्यवस्था था और इन 8 सालों में ही 11वीं से 5वीं सबसे बड़ी वैश्विक अर्थव्यवस्था बनने का सौभाग्य आज भारत को मिला है। उन्होंने कहा कि जो रास्ता प्रधानमंत्री जी ने दिखाया है और जिस रास्ते पर मोदी जी ने देश को चलाने का सफल प्रयास किया है, उस रास्ते पर चलते हुए आजादी की शताब्दी के समय हमारा भारत निश्चित रूप से दुनिया में हर क्षेत्र में सर्वोच्च स्थान पर होगा।