फिर बढ़ा कोविड कर्फ्यू उत्तराखंड में 25 मई तक, क्या है इसबार की कोविड कर्फ्यू,की गाइडलाइन

उत्तराखंड में फिर बढ़ा कोविड कर्फ्यू आज 18 मई से, मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई उच्चस्तरीय बैठक में कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति पर विचार के बाद ये फैसला लिया गया। इस उच्च स्तरीय बैठक में कोविड के चलते महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया जिसकी जानकारी शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने दी।

 https://livecultureofindia.com/village-life-blog/फिर-बढ़ा-कोविड-कर्फ्यू/

शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल  ने कहा कोविड कर्फ़्यू को फ़िलहाल के लिए बढ़ाया गया जो 18 से 25 मई तक रहेगा,इस बार पिछले कोविड कर्फ़्यू के दौरान व्यवहारिक कठिनाईयों को दूर किया गया।
शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल के मुताबिक कुछ नए प्रतिबंधों के साथ कर्फ्यू को आगे बढाया जा रहा है।
-कर्फ्यू के दौरान परचून की दुकानें अब 21 मई को सुबह सात से 10 बजे तक खुलेंगी।
– विवाह समारोह में शामिल होने के लिए RTPCR निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य की गई है।शादी समारोह में अधिकतम 20 लोगों अनुमति होगी और 72 घन्टे पूर्व RTPCR टेस्ट अनिवार्य होगा।
-मरीज के तीमारदारों को आने जाने के लिये डॉक्टर की पर्ची ही कोविड कर्फ्यू मान्य होगा।
-बैंक अब सुबह 10 से दो बजे तक खुलेंगे।
-अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए ई-पास अनिवार्य किया गया है।अंत्येष्ठि में शामिल लोगों को अनुमन्य 20 लोगो को कर्फ्यू पास   अनिवार्य  रूप से दिया जाएगा।
-हेल्थ इमरजेंसी और परिजन मृत्य के मामले में e pass आवेदन पर दिया जाएगा।
-हरिद्वार अस्थि विसर्जन 4 व्यक्ति की अनुमन्यता है वाहन के 50% की क्षमता अनुमन्य होगी।
-उधोगो के लिये मजजूरों की सुरक्षा और आवागमन के लिये अनिवार्यता के स्थान पर यथा सम्भव कर दिया गया है।

उत्तराखंड में करोना महामारी के दौरान एम्स ऋषिकेश भी अहम कदम उठा रही है उन्होंने टेलीमेडिसिन सेवा “गरुड़ की शुरुआत की

कृपया इन्हें भी पड़ें  

गठिया,साइटिका,घरेलू उपचार

पियें एक गिलास गर्म पानी, दूर करे कई परेशानी

कपड़े से बना मास्क MASK कितना बेहतर

अपने घर के मंदिर में पूजा और ध्यान रखने वाली जरूरी बातें

world oldest religious Temple 

उत्तराखण्ड के पहाड़ी गांव का रहन सहन

पहाड़ों का लाजवाब आटे वाला दूध का हलवा-tasty halwa recipe

चेहरे से मुंहासे हटाए

COVID-19 में DRDO की दवा साबित होगी संजीवनी, DRDO की 2-DG दवा,

वीडियो देखें

culture documentary चक्रव्यूह Chakravyuh

Leave a Reply