बसंत पंचमी 2022 पूजा शुभ मुहूर्त और राहुकाल

बसंत पंचमी और सरस्वती पूजा का त्योहार माघ माह के शुक्ल पक्ष की पंचंमी तिथि को मानाया जाता है। बसंत पंचमी का दिन सभी शुभ कार्यो के लिये उपयुक्त माना जाता है।

बसंत पंचमी 05 फरवरी 2022
हिन्दू पंचांग के अनुसार पंचमी तिथि 05 फरवरी को प्रातः 03 बजकर 47 मिनट से शुरू होकर अगले दिन 06 फरवरी को 03 बजकर 47 मिनट तक रहेगी।
सरस्वती की पूजा का शुभ मुहूर्त
मां सरस्वती की पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 07 बजकर 07 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट है। शुभ मुहूर्त 5 घंटे 28 मिनट तक का रहेगा
राहुकाल
राहुकाल सुबह 9 बजकर 51 मिनट से प्रात:11 बजकर 13 मिनट तक है।

इन्हें भी पढ़ें-

पहाड़ों की खुबसूरत दिवाली (इगास बग्वाल)

Pimples Treatment,चेहरे से मुंहासे का उपाय

राजगीर बिहार में घूमने लायक एक सुंदर जगह जो कश्मीर की तरह दिखता है

सरस्वती पूजा बसंत पंचमी 2022 के दिन कैसे करें

1- बसंत पंचमी के दिन पूजा की तैयारी करने से पहले प्रातः काल उठें, और घर में अच्छी तरह साफ सफाई करने के बाद पूजा की तैयारी करें
2- इस दिन स्नान करने से पहले नीम और हल्दी का लेप अपने शरीर पर अवश्य लगाएं.
3- बसंत पंचमी के दिन पीले रंग के कपड़े पहनने की भी परंपरा है नहाने के बाद पीले या सफेद रंग के कपड़े पहनें.
4-  मां सरस्वती की मूर्ति या प्रतिमा को पूजा वाली जगह पर स्थापित करें.

इन्हें भी पढ़ें-

त्रिजुगी नारायण मंदिर, world oldest religious Temple

कन्यादान न किया हो तो तुलसी विवाह करके ये पुण्य अर्जित करें,

सूर्य भगवान की पूजा | benefits of surya pooja

5- माता सरस्वती की मूर्ति या प्रतिमा के बगल में भगवान गणेश की मूर्ति जरूर रखें.
6- इस दिन पूजा वाली जगह पर कोई पुस्तक,वाद्य यंत्र या कोई भी कलात्मक चीज आवश्यक रखें.
7- इसके बाद एक साफ़ थाली या प्लेट में  कुमकुम, हल्दी, चावल, और फूलों से सजा कर भगवान गणेश और मां सरस्वती की पूजा करें.