अखाड़ा परिषद के महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध अवस्था में मौत, आरोपी शिष्य आनंद गिरि को हरिद्वार से लिया गया हिरासत में

देश में साधु संतों की सबसे बड़ी संस्था ‘अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद’ के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी जी की संदिग्ध अवस्था में मृत पाए गये अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का शव सोमवार को फांसी के फंदे से लटकता मिला। महंत नरेंद्र गिरि का शव अल्लापुर बाघंबरी मठ में स्थित कमरे से पंखे से लटकता हुआ बरामद किया गया है। खबर मिलते ही आईजी सहित तमाम आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। पुलिस ने महंत नरेंद्र गिरि का शव को अपने कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।बतया जा रहा है की पुलिस को घटनास्थल से सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है, जिसकी जाँच की जा रही है

उत्तर प्रदेश के ADG (क़ानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने बताया पुलिस को सूचना मिली थी की महंत जी ने आत्महत्या की है। सूचना मिलने पर IG और उनकी टीम मौके पर पहुंची हमको मौके से सुसाइड नोट मिला था जिसपर उन्होंने आनंद गिरि तथा दो अन्य लोगों के विरुद्ध आरोप लगाए हैं तुरंत कार्रवाई करते हुए हमने आनंद गिरि को उत्तराघंड पुलिस की सहायता से हरिद्वार से हिरासत में लिया। एक टीम वहां भेजी जा रही है जो पूर्ण सुरक्षा के बीच उसको लाएगी और आगे की पूछताछ इसमें की जाएगी

प्रयागराज IG के.पी. सिंह ने बताया हमें आश्रम से फोन आया कि महाराज(महंत नरेंद्र गिरि) फंदे से लटक गए हैं। जब हम यहां आए तो देखा कि महाराज ज़मीन पर लेटे हुए थे। रस्सी पंखे में फंसी हुई थी। उनकी मृत्यु हो चुकी थी प्रथम दृष्टया ये सुसाइड का मामला लग रहा है। उनका(महंत नरेंद्र गिरि) सुसाइड नोट भी मिला है। सुसाइड नोट में उन्होंने लिखा कि मैं बहुत से कारणों से दुखी था इसलिए आत्महत्या कर रहा हूं। मामले में जांच जारी है

हमें आश्रम से फोन आया कि महाराज(महंत नरेंद्र गिरि) फंदे से लटक गए हैं। जब हम यहां आए तो देखा कि महाराज ज़मीन पर लेटे हुए थे। रस्सी पंखे में फंसी हुई थी। उनकी मृत्यु हो चुकी थी

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने बताया उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारी प्रयागराज पहुंच गए हैं और प्रारंभिक दौर में जो भी तथ्य सामने आएंगे उनको वे जल्द प्रस्तुत करेंगे। महंत जी का ना रहना हम सब के बीच में अविस्मरणीय और दुखद क्षण है, जो मन को आहत करने वाला है

महंत श्री नरेंद्र गिरी जी के निधन पर प्रधानमंत्री उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री सहित देश की तमाम हस्तियों ने दुख जताया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुःख जताते हुए ट्वीट किया
अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्री नरेंद्र गिरि जी का देहावसान अत्यंत दुखद है। आध्यात्मिक परंपराओं के प्रति समर्पित रहते हुए उन्होंने संत समाज की अनेक धाराओं को एक साथ जोड़ने में बड़ी भूमिका निभाई। प्रभु उन्हें अपने श्री चरणों में स्थान दें। ॐ शांति!!

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लिखा आध्यात्मिक जगत की अपूरणीय क्षति है
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि जी का ब्रह्मलीन होना आध्यात्मिक जगत की अपूरणीय क्षति है। प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत पुण्यात्मा को अपने श्री चरणों में स्थान तथा शोकाकुल अनुयायियों को यह दुःख सहने की शक्ति प्रदान करें। ॐ शांति!

रणदीप सिंह सुरजेवाला
संतों महन्तों की सर्वोच्च संस्था अखाड़ा परिषद के आदरणीय महंत नरेंद्र गिरी जी की संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु हृदयविदारक है।