मुंबई में वॉटर टैक्सी का इंतजार हुआ खत्म, केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

मुंबई में वॉटर टैक्सी का इंतजार हुआ खत्म, केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने 17 फरवरी को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बेलापुर जेट्टी से मुंबई के नागरिकों के लिए वॉटर टैक्सी को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। ये वो वॉटर टैक्सी है जिसका सबसे ज्यादा इंतजार था। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मौके पर मौजूद रहकर समारोह की अध्यक्षता की और नवनिर्मित बेलापुर जेट्टी का उद्घाटन किया।

तटीय महाराष्ट्र के लोगों की लंबे समय से इसकी इच्छा थी। वॉटर टैक्सी सेवा पहली बार मुंबई और नवी मुंबई दोनों शहरों को जोड़ेगी। वॉटर टैक्सी सेवाएं डोमेस्टिक क्रूज़ टर्मिनल (डीसीटी) से शुरू होंगी और नेरुल, बेलापुर, एलीफेंटा द्वीप और जेएनपीटी के आस-पास के स्थानों को भी जोड़ेंगी। यह सेवा एक आरामदायक और तनाव मुक्त यात्रा का वादा करती है। साथ ही समय बचाने वाली है और पर्यावरण के अनुकूल परिवहन को बढ़ावा देती है।

इन्हें भी पढ़ें-

पहाड़ों की खुबसूरत दिवाली (इगास बग्वाल)

Pimples Treatment,चेहरे से मुंहासे का उपाय

राजगीर बिहार में घूमने लायक एक सुंदर जगह जो कश्मीर की तरह दिखता है

वॉटर टैक्सी सेवाएं पर्यटन क्षेत्र को भारी प्रोत्साहन देने जा रही हैं, विशेष रूप से नवी मुंबई से ऐतिहासिक एलीफेंटा गुफाओं की यात्रा को बल मिला है। यात्री नवी मुंबई से गेटवे ऑफ इंडिया तक आसानी से यात्रा कर सकेंगे।

नवनिर्मित बेलापुर घाट 8.37 करोड़ रुपये की लागत से बना है और इसे पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग मंत्रालय की सागरमाला योजना के तहत 50-50 मॉडल में फंड प्राप्त हुए है। नई जेट्टी भौचा ढाका, मांडवा, एलीफेंटा और करंजा जैसे स्थानों पर जहाजों की आवाजाही को सक्षम बनाएगी।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कार्यक्रम को संबोधित करते हुए, केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने उन परियोजनाओं को पूरा करने के लिए मुंबई मैरीटाइम बोर्ड और केंद्र तथा राज्य एजेंसियों की सराहना की जो नागरिकों को भारी लाभ पहुंचाते हुए पर्यटन को बढ़ावा और रोजगार सृजन के रास्ते खोलते हैं। मंत्री ने आगे कहा, “सागरमाला कार्यक्रम के तहत बंदरगाह आधुनिकीकरण, रेल, सड़क, क्रूज पर्यटन, आरओआरओ और यात्री जेटी, मत्स्य पालन, तटीय बुनियादी ढांचे और कौशल विकास जैसी विभिन्न श्रेणियों में कई परियोजनाएं शुरू की गई हैं। महाराष्ट्र में 1.05 करोड़ रुपये की लागत वाली 131 परियोजनाओं की कार्यान्वयन के लिए पहचान की गई है।

इन्हें भी पढ़ें-

त्रिजुगी नारायण मंदिर, world oldest religious Temple

कन्यादान न किया हो तो तुलसी विवाह करके ये पुण्य अर्जित करें,

सूर्य भगवान की पूजा | benefits of surya pooja

Documentary film .

 उत्तराखंड पहाड़ों में कैसे रहते हैं भाग 6 ,चोलाई की खेती कैसे करते हैं