यूक्रेन के पड़ोसी देशों से 5 मार्च शनिवार को विशेष उड़ानों के माध्यम से 3,000 भारतीय एयरलिफ्ट किए गए

भारतीय नागरिकों को निकालने के लिए चलाए गए ‘ऑपरेशन गंगा’ के तहत 5 मार्च शनिवार को यूक्रेन के पड़ोसी देशों से 15 उड़ानों के द्वारा लगभग 3,000 भारतीयों को एयरलिफ्ट किया गया है। इनमें 12 विशेष सिविलियन और 3 आईएएफ की उड़ानें शामिल थीं। इसके साथ, 22 फरवरी, 2022 से अभी तक विशेष उड़ानों के माध्यम से 13,700 से ज्यादा भारतीयों को वापस लाया जा चुका है। 55 विशेष सिविलियन उड़ानों के द्वारा वापस लाए गए भारतीयों की संख्या बढ़कर 11,728 हो गई है। अभी तक आईएएफ द्वारा संचालित 10 उड़ानों से 2,056 यात्रियों को वापस लाया जा चुका है, वहीं ऑपरेशन गंगा के तहत इन देशों को लगभग 26 टन राहत सामान पहुंचाया जा चुका है।

आईएएफ के तीन सी-17 हैवी लिफ्ट ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट शुक्रवार को हिंडन हवाई अड्डे से रवाना हुए थे, जो 5 मार्च शनिवार को सुबह हिंडन लौट आए। इन उड़ानों के माध्यम से रोमानिया, स्लोवाकिया और पोलैंड से 629 भारतीय नागरिकों को वापस लाया गया। ये उड़ानें भारत से इन देशों के लिए 16.5 टन राहत सामान भी लेकर गए थे। एक को छोड़कर सभी सिविलियन उड़ानें 5 मार्च शनिवार सुबह वापस आ गईं, जबकि कोसिक से नई दिल्ली की उड़ान के देर शाम पहुंचने का अनुमान है। 5 मार्च शनिवार को सिविलियन उड़ानों में से 5 ने बुडापेस्ट से, 4 ने सुकेवा से, 1 ने कोसिक से और 2 ने रजेसजो से उड़ान भरी थी।

इन्हें भी पढ़ें-

त्रिजुगी नारायण मंदिर, world oldest religious Temple

कन्यादान न किया हो तो तुलसी विवाह करके ये पुण्य अर्जित करें,

सूर्य भगवान की पूजा | benefits of surya pooja

आज  संभवतः बुडापेस्ट, कोसिक, रजेसजो और बुखारेस्ट से उड़ान भरने वाली 11 विशेष उड़ानों से 2,200 से ज्यादा भारतीयों के वापस लौटने का अनुमान है।

Documentary film .

 उत्तराखंड पहाड़ों में कैसे रहते हैं भाग 6 ,चोलाई की खेती कैसे करते हैं