लता मंगेशकर के महान व्यक्तित्व को विश्व युगों-युगों तक याद रखेगा।

वो एक जादुई सी आवाज़ थी, उस आवाज़ को कभी भूल नहीं सकते म्यूजिक की दुनिया में एक पूजा जाने वाला नाम सुरों की कोकिला लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) ने 6 फरवरी 2022 को ब्रीच कैंडी अस्तपाल में कोरोना से जंग लड़ते हुए 92 साल की उम्र में अलविदा कह गई, लता मंगेशकर के महान व्यक्तित्व को विश्व युगों-युगों तक याद रखेगा। उन्होंने अलग अलग भारतीय भाषाओं में अब तक 30 हजार से ज्यादा गाने गाए हैं। उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से भी नवाजा जा चुका है। इसके अलावा उन्हें पद्म भूषण, पद्म विभूषण और दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

इन्हें भी पढ़ें- पंचतत्व में विलीन हुई सुर-साम्राज्ञी भारत रत्‍न से सम्‍मानित गायिका लता मंगेशकर

स्वर कोकिला भारत रत्न लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) जी  का जन्म 28 सितंबर 1929 में हुआ था,लता दीदी का असली नाम कुमारी लता दीनानाथ मंगेशकर था पिता का नाम पंडित दीनानाथ मंगेशकर था. लता मंगेशकर अपनी छोटी बहन आशा भोंसले उनके पिता मराठी थियेटर के मशहूर एक्टर और नाट्य संगीत म्युजिशियन थे लता मंगेशकर ने 13 साल की उम्र में अपने पिता की मृत्यु के बाद काम करना शुरू कर दिया था. वह परिवार में सबसे बड़ी बेटी थीं और किसी को अकेले कमाने वाले की मृत्यु के बाद परिवार की देखभाल की. उन्होंने अभिनेत्री के रूप में शुरुआत की और बाद में वे वह शख्सियत बनीं जिसे हम सभी एक महान गायिका के रूप में जानते हैं.

इन्हें भी पढ़ें- लता मंगेशकर के महान व्यक्तित्व को विश्व युगों-युगों तक याद रखेगा।

लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) को बचपन से ही गायन का शौक था और ऐसा करने से रोकने पर उसे चोट लगी. लता मंगेशकर स्कूल नहीं गई. उनके स्कूल न जाने के कई कारण माने जाते हैं, इसके बाबजूद भी हममें से किसी के पास जितनी डिग्री हो सकती है, उससे कहीं अधिक उन्होंने पाईं. सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर को दुनिया के छह विश्वविद्यालयों ने डॉक्टरेट की डिग्री दी है.अपने पूरे करियर के दौरान, उन्हें कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है. न केवल राष्ट्रीय बल्कि अंतरराष्ट्रीय उपलब्धियां लता मंगेशकर को मिलीं.

इन्हें भी पढ़ें-

त्रिजुगी नारायण मंदिर, world oldest religious Temple

कन्यादान न किया हो तो तुलसी विवाह करके ये पुण्य अर्जित करें,

सूर्य भगवान की पूजा | benefits of surya pooja

लता मंगेशकर की जीवन में उपलब्धियां 

भारत सरकार द्वारा
1. पद्म भूषण, 1969
2. दादा साहब फाल्के पुरस्कार, 1989
3. पद्म विभूषण, 1999
4. भारत रत्न, 2001
5. लाइफटाइम अचीवमेंट के लिए वन टाइम अवार्ड, 2008

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों द्वारा
1. परिचय, 1982 के गीत के लिए सर्वश्रेष्ठ महिला पार्श्व गायिका
2. सर्वश्रेष्ठ महिला पार्श्व गायिका फिल्म कोरा कागज़ के लिए , 1974
3. 1990 में ‘लेकिन’ के लिए सर्वश्रेष्ठ महिला पार्श्व गायिका.

इन्हें भी पढ़ें-

पहाड़ों की खुबसूरत दिवाली (इगास बग्वाल)

Pimples Treatment,चेहरे से मुंहासे का उपाय

राजगीर बिहार में घूमने लायक एक सुंदर जगह जो कश्मीर की तरह दिखता है

फिल्मफेयर पुरस्कारों द्वारा
लता मंगेशकर को उनके अद्भुत गीतों के लिए कई फिल्मफेयर पुरस्कार भी मिले हैं. यहाँ कुछ पुरस्कारों की लिस्ट पढ़ें.

1. 1959 – मधुमती से “आज रे परदेसी”
2. 1963 – बीस साल बड़ी से “कही दीप जले कही दिल”
3. 1970 – जीने की राह से “आप मुझे अच्छे लगने लगे”
4. 1993 – फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड
5. 1994 – हम आपके हैं कौन से “दीदी तेरा देवर दीवाना” के लिए फिल्मफेयर विशेष पुरस्कार
6. 2004 – फिल्मफेयर स्पेशल अवार्ड जहां फिल्मफेयर अवार्ड्स के 50 साल पूरे होने के अवसर पर एक गोल्डन ट्रॉफी प्रदान की गई.

अन्य पुरस्कार
1. 1980 – जॉर्ज टाउन, गुयाना, दक्षिण अमेरिका के शहर की प्रस्तुत कुंजी.
2. 1980 – सूरीनाम गणराज्य, दक्षिण अमेरिका की मानद नागरिकता.
3. 1985 – 9 जून, टोरंटो, ओंटारियो, कनाडा में उनके आगमन के सम्मान में एशिया दिवस के रूप में घोषित किया गया.
4. 1987 – ह्यूस्टन, टेक्सास में संयुक्त राज्य अमेरिका की मानद नागरिकता.
5. 2010 – नाइट ऑफ द लीजन ऑफ ऑनर (फ्रांसीसी सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार) ईएमआई लंदन की प्लेटिनम डिस्क प्राप्त करने वाले एकमात्र एशियाई.

Documentary film .

 उत्तराखंड पहाड़ों में कैसे रहते हैं भाग 6 ,चोलाई की खेती कैसे करते हैं