श्रावण मास 2022-भगवान शिव को चढ़ाए जाने वाले फूल और सामग्री

श्रावण मास 2022 हिन्दू धर्मशास्त्रों में सावन माह का विशेष महत्व माना गया है। हिंदू पंचांग के अनुसार सावन 5 वां महीना माना जाता है। यह शिवजी को समर्पित महीना है। शिवजी का सबसे प्रिय माह सावन में भगवान भोलेनाथ की विधि-विधान से पूजा की जाती है। इस वर्ष श्रावण मास 2022 का शुभारंभ 14 जुलाई 2022 से हो रहा है और 12 अगस्त को श्रावण पूर्णिमा के दिन सावन मास की समाप्ति होगी। इस बार सावन माह का पहला श्रावण सोमवार 18 जुलाई 2022 को पड़ रहा है तथा सावन महीने का आखिरी दिन 12 अगस्त को रहेगा।
श्रावण मास 2022 आरम्भ
कृष्ण पक्ष दिनांक 13 जुलाई शुक्रवार गुरुपूर्णिमा श्रावण आरम्भ
1 -प्रथम सोमवार
कृष्ण पक्ष दिनांक 18 जुलाई पंचमी श्रावण सोमवार
2 -द्वितीय सोमवार
कृष्ण पक्ष दिनांक 25 जुलाई बारस सोम प्रदोष श्रावण सोमवार
3 -तृतीय सोमवार
शुक्लपक्ष दिनांक 1 अगस्त चतुर्थी श्रावण सोमवार
4 -चतुर्थ श्रावण सोमवार
शुक्लपक्ष दिनांक 8 अगस्त एकादशी सोमवार
शुक्ल पक्ष दिनांक 9 अगस्त द्वादशी श्रावण भोम् प्रदोष
शुक्ल पक्ष दिनांक 12 अगस्त शुक्रवार पूर्णिमा श्रावण पूर्ण

इन्हें भी पढ़ें-

श्रावण मास में भगवान शिव पूजन का पौराणिक महत्व

त्रिजुगी नारायण मंदिर | world oldest religious Temple

तांबे के बर्तन का पानी पीने के 7 फायदे

Gujiya Recipe-गुजिया रेसिपी

Deepawali 2021 | दीपावली कब है | दिवाली में लक्ष्मी पूजा शुभ मुहूर्त

Skincare advantage of tea tree oil-त्वचा की देखभाल करें

पितर कौन होते हैं और तर्पण किन को दिया जाता, जाने

श्रावण मास 2022 में भगवान शिव को चढ़ाए जाने वाले फूल
श्रावण मास में भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा का महत्व रहता है। पूजा सामग्री कई प्रकार की रहती है परंतु शिवजी को कुछ विशेष प्रकार के फूल ही चढ़ाए जाते हैं। आइए जानते हैं कि भगवान शिव को कौन कौनसे फूल और पूजा सामग्री अर्पित की जाती है।

1. धतूरे के फूल
2. हरसिंगार के फूल

3. नागकेसर के सफेद पुष्प
4. सूखे कमल गट्टे
5. कनेर के फूल
6. कुसुम के फूल
7. आंकड़े के फूल
8. कुश के फूल
9. गेंदे के फूल
10. गुलाब के फूल
11. शंख पुष्पी का फूल
12. बेला के फूल
13. चमेली का फूल
14. शेफालिका का फूल
15. आगस्त्य

श्रावण मास 2022 में भगवान शिव को चढ़ाए जाने वाले फूल के फायदे

1. ऐसी मान्यता है कि शिवजी को चमेली का फूल चढ़ाने से वाहन सुख मिलता है।
2. कमल का फूल, बिल्वपत्र और शंख पुष्पी चढ़ाने से धनलाभ होता है।
3. बेला का फूल चढ़ाने से विवाह की समस्या दूर होती है।
4. संतान प्राप्त के लिए धतूरा अर्पित करना होता।
5. तनाव दूर करने के लिए शेफालिका का फूल अर्पित करना चाहिए।
6. आगस्त्य का फूल चढ़ाने से मान सम्मान की प्राप्ति होती है।
7. कनेर का फूल चढ़ाने से वस्त्र आभूषणों की प्राप्ति होती है।
8. दूर्वा चढ़ाने लंबी आयु प्राप्त होती है।
10. सफेद कमल का फूल चढ़ाने से सुख शांति की प्राप्ति होती है।

श्रावण मास 2022 में भगवान शिव के पूजन में चढाये वाली प्रमुख सामग्री

1.जल, 2.दूध, 3.दही, 4.शहद, 5.घी, 6.चीनी, 7.इत्र, 8.चंदन, 9.केसर, 10.भांग और 11. लाल फूल।

श्रावण मास 2022 में भगवान शिव के पूजन में चढाये जाने वाली सामग्री के फायदे

1. जल अर्पित करने से मन शांत होता है।
2. दूध अर्पित करने से सेहत में लाभ होता है।
3. दही अर्पित करने से स्वभाव में सुधार होता है।
4. शहद अर्पित करने से वाणी में मिठास आती है।
5. घी अर्पित करने से शक्ति बढ़ती है।
6. चीन अर्पित करने से सुख और समृद्धि बढ़ती है।
7. इत्र अर्पित करने से विचार और भाव पवित्र होते हैं।
8. चंद ‍अर्पित करने से मान सम्मान प्राप्त होता है।
9. केसर अर्पित करने से सौम्यता प्राप्त होती है।
10. भांग अर्पित करने से सभी तरह की बुराईयां और रोग समाप्त होते हैं।

Documentary film

Himalayan women lifestyle Uttarakhand India

village life Uttarakhand India part 5

निरंकार देव पूजा पौड़ी गढ़वाल उत्तराखंड, Nirankar Dev Pooja in luintha