5वें वैश्विक भगवद्गीता सम्मेलन में उपराष्ट्रपति ने कहा कि भगवद्गीता का संदेश हमेशा प्रासंगिक रहता है धर्मगुरुओं से इसे युवाओं और जनता तक पहुंचाने का आग्रह किया

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडु ने चेन्नई से 19 फरवरी को वर्चुअल तरीके से 5वें वैश्विक भगवद्गीता सम्मेलन का उद्घाटन किया। उन्होंने पूरी मानवता के लाभ के लिए भगवद्गीता के सार्वभौमिक संदेश को अधिक से अधिक भाषाओं में अनुवाद करने की आवश्यकता पर जोर दिया। सेंटर फॉर इनर रिसोर्स डिवेलपमेंट (सीआईआरडी), उत्तर अमेरिका की ओर से ऑनलाइन मोड में आयोजित किए जा रहे इस सम्मेलन का फोकस ‘मानसिक सामंजस्य’ विषय पर है। इस विषय के बारे में बात करते हुए, श्री नायडु ने कहा कि आज के समय में मानसिक तनाव तेजी से बढ़ रहा है। उन्होंने स्वास्थ्य के इस गंभीर मुद्दे को लेकर अधिक जागरूकता और ध्यान देने का आह्वान किया। उन्होंने यह भी कहा कि भले ही भगवद्गीता हजारों साल पुरानी है लेकिन इसका समय से परे संदेश लोगों के लिए हमेशा प्रासंगिक रहता है, उन्हें मानसिक शांति प्रदान करने में मार्गदर्शन और सहायता प्रदान करता है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों की व्यापकता के बावजूद, भारत में जागरूकता कम है और इससे जुड़ी कई भ्रांतियां हैं। इस बात का जिक्र करते हुए कि महामारी का लोगों की मानसिक सेहत पर अतिरिक्त प्रभाव पड़ा है, उन्होंने कहा कि किसी भी चीज से अधिक, हमें मानसिक स्वास्थ्य के महत्व के बारे में खुलकर बातचीत करने के लिए तैयार रहना चाहिए। श्री नायडु ने सभी क्षेत्रों की लोकप्रिय हस्तियों से इस महत्वपूर्ण जन स्वास्थ्य के मुद्दे पर लोगों के बीच बात करने और जागरूकता बढ़ाने का आह्वान किया।

इन्हें भी पढ़ें-

त्रिजुगी नारायण मंदिर, world oldest religious Temple

कन्यादान न किया हो तो तुलसी विवाह करके ये पुण्य अर्जित करें,

सूर्य भगवान की पूजा | benefits of surya pooja

उपराष्ट्रपति ने पढ़ाई के दबाव के चलते पैदा हुए तनाव का सामना करने में असमर्थ छात्रों के अपना जीवन समाप्त करने की घटनाओं पर चिंता व्यक्त की। उन्होंने छात्रों को परामर्श देने में माता-पिता और शिक्षकों की भूमिका पर प्रकाश डाला, जिससे वे बच्चों को किसी भी प्रतिकूल परिस्थिति का निडरता से सामना करने और परिणाम की चिंता किए बगैर अपना कार्य पूरी लगन से करने के लिए प्रेरित कर सकें। उन्होंने कहा, ‘यह भगवान श्रीकृष्ण द्वारा अर्जुन को दिए गए उपदेश का सार है।’

इस संबंध में, श्री नायडु ने सुझाव दिया कि प्रत्येक शिक्षण संस्थान में छात्रों को तनावपूर्ण स्थितियों से उबरने में मदद करने के लिए इन-हाउस काउंसलर होना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि हर जगह पर सरकारों को इस आवश्यकता का अनुपालन सुनिश्चित करना चाहिए। लोगों को चौबीस घंटे मुफ्त परामर्श प्रदान करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा एक राष्ट्रीय टेली-मेंटल हेल्थ प्रोग्राम शुरू करने की घोषणा की सराहना करते हुए, उपराष्ट्रपति ने कहा कि यह लोगों, विशेष रूप से दूरदराज में रहने वालों की मानसिक सेहत को सुनिश्चित करने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है। इसमें व्यक्ति की पहचान भी सार्वजनिक नहीं होगी।

उपराष्ट्रपति ने ‘लोगों की जीवन शैली में सुधार’ और लोगों की भलाई के लिए काम और जीवन में संतुलन सुनिश्चित करने का भी आह्वान किया। उन्होंने तनाव से निपटने के लिए ध्यान, व्यायाम, योग जैसे उपायों का सुझाव देते हुए मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में आध्यात्म के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने कहा, ‘मेरा दृढ़ विश्वास है कि किसी भी व्यक्ति की आंतरिक शक्ति और मानसिक शांति की खोज के लिए आध्यात्म आवश्यक है। इस संबंध में, मैं धर्मगुरुओं से आग्रह करता हूं कि वे आध्यात्म के संदेश को युवाओं और जनता तक पहुंचाएं।’

Documentary film .

उत्तराखंड में महाभारत का चक्रव्यूह