World record बना कोरोना टीकाकरण 24 घंटों में लगे 86 lakh corona vaccination

करोना टीकाकरण ( corona vaccination ) की नीति में बदलाव करने के बाद पहले ही दिन भारत ने दुनिया के सारे रिकॉर्ड (World record) तोड़  दिए।
पिछले 24 घंटों में देशभर में ( corona vaccination ) टीके की 86.16 लाख से अधिक खुराक दी गईं.सोमवार को कुल 86,16,373 टीके दिए गए,जबकि 2 अप्रैल को देश में 42 लाख 61 हजार से ज्यादा वैक्सीन डोज लगाई गई थीं.

वैक्सीनेशन नीति में 1 मई को केंद्र सरकार ने बदलाव किया था देश में 18 से ऊपर के लोगों के लिए केंद्र सरकार ने राज्यों को मुफ्त वैक्सीन उपलब्ध करवाना शुरू किया है|

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा,
आज की रिकॉर्ड तोड़ टीकाकरण संख्या प्रसन्न करने वाली है। COVID-19 से लड़ने के लिए वैक्सीन हमारा सबसे मजबूत हथियार बना हुआ है। उन सभी को बधाई जिन्होंने टीका लगाया और सभी अग्रिम पंक्ति के योद्धाओं को बधाई दी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इतने सारे नागरिकों को टीका मिल सके।  Well done India

इन्हें भी पढ़ें-  श्रीनगर कश्मीर घाटी को रेल मंत्रालय का बड़ा तोहफा,

सरकार द्वारा जारी की गई प्रेस रिलीज के अनुसार

भारत ने एक दिन में टीके की 86.16 लाख खुराकें लगाईं। एक दिन में सबसे ज्यादा टीके लगाने का यह कीर्तिमान दुनिया में पहली बार हुआ है।

देशव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अब तक वैक्सीन की 28.87 करोड़ डोज लगाई गई है। पिछले 24 घंटों में भारत में 42,640 नये मामले दर्ज हुये, जो 91 दिनों में 50,000 से कम हैं।भारत में सक्रिय मामले कम होकर 6,62,521 तक पहुंचे, जो 79 दिनों में सात लाख से कम हैं।

इन्हें भी पढ़ें- moongphali khane ke fayde | Amazing benefits of peanuts

दीपक जलाने के सही नियम जानिए,भगवान होंगे प्रसन्न,

पहाड़ों की खीरा कढ़ी रेसिपी-kheera kadhi recipe

अब तक पूरे देश में कुल 2,89,26,038 मरीज स्वस्थ हुये।पिछले 24 घंटों के दौरान 81,839 मरीज स्वस्थ हुये।पिछले लगातार 40वें दिन दैनिक नये मामलों की तुलना में दैनिक रिकवरी अधिक रही।

रिकवरी दर में इजाफा, वह 96.49 प्रतिशत पहुंची।साप्ताहिक पॉजीटिविटी दर पांच प्रतिशत से नीचे कायम। वर्तमान में यह 3.21 प्रतिशत है।

दैनिक पॉजीटिविटी दर 2.56 प्रतिशत है, जो लगातार 15वें दिन पांच प्रतिशत से कम पर कायम है।

जांच क्षमता में उल्लेखनीय वृद्धि के साथ, अभी तक कुल 39.40 करोड़ से अधिक जांचें की जा चुकी हैं।

 

 वीडियो भी देख सकते हैं

उत्तराखंड पहाड़ों में कैसे रहते हैं Documentary film

 

Leave a Reply