Defense Minister Rajnath Singh ने किया लद्दाख में BRO द्वारा निर्मित 63 बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का उद्घाटन

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defense Minister Rajnath Singh) ने आज लद्दाख में सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा निर्मित 63 बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का उद्घाटन किया रक्षा मंत्री इस समय लद्दाख के तीन दिवसीय दौरे पर हैं।

लद्दाख: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीमा सड़क संगठन (BRO) द्वारा निर्मित सड़कों और पुलों का उद्घाटन किया इस दोरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कहा,”जिन सड़कों का निर्माण BRO कर रहे हैं वह देश की विकास की गति को बढ़ाने वाले हैं।

 https://livecultureofindia.com/national-राष्ट्रीय-news/defense-minister-rajnath-singh/

 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीमा सड़क संगठन (BRO) की तरफ करते हुए कहा देश का विकास में हाईवे और पुलों का अहम योगदान है हाईवे और पुल नहीं बने तो देश का विकास किसी भी सूरत में संभव नहीं है

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा मुझे विश्वास है कि आज जिन पुलों का उद्घाटन किया गया है, वे बेहतर कनेक्टिविटी के माध्यम से सुरक्षा को मजबूत करने के साथ-साथ संबंधित राज्यों के आर्थिक विकास को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 27 जून को कहा था अपनी  यात्रा के दौरान, मैं सैनिकों के साथ बातचीत करूंगा और सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा निर्मित कई बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के उद्घाटन समारोह में भाग लूंगा। उसी कड़ी में आज उन्होंने सीमा सड़क संगठन(BRO) द्वारा निर्मित 63 बुनियादी परियोजनाओं का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा,”जिन सड़कों का निर्माण BRO कर रहे हैं वह देश की विकास की गति को बढ़ाने वाले हैं। आज 63 पुल और सड़कों का लोकापर्ण हुआ। ये BRO कर्मियों की सूझबूझ से हुआ है

लद्दाख में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लेह में सैनिकों से मुलाकात की। इस दौरान सैनिकों ने ‘भारत माता की जय’ का नारा लगाया।

इस दौरान रक्षा मंत्री ने कहा  मुझे बताया गया है कि 14th Corp के 3rd division की स्थापना 1962 में भारत-चीन युद्ध के दरमियान हुई थी। अपने स्थापना के कुछ वर्षों में ही 1965 की भारत-पाकिस्तान युद्ध में आपने निर्णायक भूमिका निभाई। कारगिल युद्ध में भी आपके वीरता के कहानियों ने देशवासियों का सिर ऊंचा किया

मैं सबसे पहले उन सभी जवानों की स्मृतियों को नमन करता हूँ जिन्होने जून 2020 में ‘गलवान घाटी’ में देश के लिए अपने प्राणो का बलिदान दिया। मै यह भी कहना चाहता हूँ कि यह देश उनके बलिदान को कभी नहीं भूलेगा,

पढ़ें-

रात में भिगोकर खाएं इन 7 चीजों को आप अचंभित रह जाएंगे

लौंग के फायदे in Hindi | 14 Benefits Of Cloves

नारियल की पूजा क्यों की जाती

चेहरे से मुंहासे हटाए

आपकी वीरतापूर्ण कारनामों की वजह से ही आपको ‘त्रिशूल’ डिविजन के नाम से अलंकित किया गया है। आज आप भगवान शंकर के त्रिशुल के समान प्रचंड होकर, देश की उत्तरी सीमाओं की रक्षा कर रहे हैं और मुझे पूरा विश्वास है कि सीमा पर उभरते किसी भी परिस्थिति का सामना करने में आप सक्षम है

हम विश्वशांति के पुजारी हैं। हम शस्त्र भी धारण करते हैं तो शांति की स्थापना के लिए। भारत ने आज तक किसी भी देश पर न तो आक्रमण किया है न ही किसी भी देश की एक इंच ज़मीन पर हमने क़ब्ज़ा किया है

पड़ोसी देशों के साथ बातचीत के ज़रिए समाधान निकालने की कोशिश की जानी चाहिए। मंशा साफ़ होनी चाहिए। हम न तो किसी को आँख दिखाना चाहते हैं, न किसी का आँख दिखाना मंज़ूर है। हमारी सेना में हर चुनौती का मुंहतोड़ जवाब देने की क्षमता है|

 

वीडियो भी देखें

Culture Documentary –How to Chakravyuh of Mahabharata

 

Leave a Reply