नहीं रहे 38 बीवियों 89 बच्चों वाले जियोना चाना,largest family in the world-ziona Chana is no more

दुनिया का सबसे बड़ा परिवार (largest family in the world) मिजोरम के एक गांव में रहता है इस परिवार के मुखिया जियोना चाना (ziona Chana) का 76 साल की उम्र में निधन हो गया, 7 जून को चाना की तबीयत खराब हुई थी उन्हें हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटिज की शिकायत थी.मिजोरम की राजधानी आइजॉल के ट्रिनिटी हॉस्पिटल में उन्होंने आखरी साँस ली,

 https://livecultureofindia.com/national-राष्ट्रीय-news/largest-family-i…orld-ziona-chana/

21 जुलाई 1945 को जन्मे जियोना चाना (ziona Chana) ने 17 साल की उम्र में जाथियांगी से पहली शादी रचाई थी,पहली पत्नी उम्र में उनसे तीन साल बड़ी थी जियोना चाना ने शुरू में 17 साल की उम्र में एक साल में 10 शादियां की थीं. उसके बाद उनका परिवार लगातार बढ़ता गया,

मिजोरम के जियोना चाना (ziona Chana) का बख्तवांग गांव दुनियां का बड़े परिवार (largest family in the world) होने की वजह से पर्यटकों के बीच आकर्षण बिशेष केंद्र बन चुका है।इस परिवार का नाम गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज़ है,

76 साल जियोना चाना की 38 बीवियां हैं और 89 बच्चे.26 दामाद, 33 पोते-पोतियां हैं परिवार में 181 लोग हैं. परिवार के सभी लोग सुख-चैन से एक साथ रहते चले गए.

मिजोरम के जियोना चाना जिस ट्राइब्स से ताल्लुक रखते हैं, उसमें कई बीवियां रखी जा सकती हैं.आज तक जियोना चाना के परिवार में किसी प्रकार लड़ाई झगडा नहीं सुनाई दिया.जियोना चाना का सबसे बड़ा बेटा करीब 52 साल का है

इन्हें भी पढ़ सकते हैं –पाचन क्रिया सही रखे ये घरेलू उपाय

जियोना (ziona Chana) ने अपने परिवार के रहने के लिए चार मंजिला घर बक्तांग की पहाड़ियों में बनाया था,ये घर किसी बोर्डिंग हाउस से कम नहीं था,जियोना ने मेहमानों के ठहरने के लिए गेस्ट हाउस भी बना रखा है,

इनका बक्तांग की पहाड़ियों में बनाया हुआ बहुत बड़ा घर है जिसमें 100 कमरे हैं एक बड़ा कमरा और ड्राइंग रूम चाना का है|बड़ा सा रसोईघर के अलावा सबके लिए पर्याप्त जगह है

जियोना (ziona Chana) का खयाल रखने के लिए हर वक्त 7-8 नवविवाहित पत्नियां लगी रहती थीं जो उनकी सुविधाओं का खयाल रखा करती थीं. चाना की पत्नियां उनके बीच कभी किसी तरह का मनमुटाव या झगड़ा नहीं देखा गया.

जहाँ एक साथ एक ही परिवार (largest family in the world) में इतने सारे वोट हो तो राजनीतिक पार्टियां तमाम नेता इस परिवार को अच्छा खासा महत्व देने में भी कोई कसर नही छोडते थे,

कोरोना महामारी के समय भी जिस तरह सावधानियां बरती जा रही हैं. उसी प्रकार से ये परिवार भी बरत रहा है. इस दोरान उसने खुद को बाहरी लोगों से एकदम काटा हुआ है.कोरोना से इस (ziona Chana) परिवार का सुरक्षित होना दुनिया के लिए भी एक खबर बिषय बना,इस परिवार ने दुनिया को एक संदेश भी दिया,

इन्हें भी पड़ेंकैबिनेट की मंजूरी, किरायेदार-मकान मालिक को मिलेंगे कई अधिकार,Model Tenancy Act

 

पूरा परिवार बाजार पर डिपेंड नहीं रहता है परिवार के काम आने वाले हर चीज को वो या खुद ही पैदा कर लेते हैं घर पर ही बना लेते हैं.

जहाँ तक यहां खाने की बात करें बतया जाता है की एक दिन में लगभग 50 किलो से ज्यादा चावल, 30-40 मुर्गे, 30 किलो दाल, दर्जनों अंडे, 60 किलो सब्जियों की ज़रूरत होती है.

इसके अलावा इस परिवार में लगभग 25 किलो फल की भी हर रोज़ खपत होती है.इसमें सबसे बड़ी बात ये बताई जाती है| सबकुछ ये लोग खुद ही उगाते हैं. उनके पास अपने बड़े बड़े खेत हैं और फल के पेड़. और अपना एक पोल्ट्री फॉर्म भी है.

इस परिवार (largest family in the world) की मुखिया की मुख्य भूमिका जियोना चाना और उनकी सबसे बड़ी पत्नी निभाती हैं,परिवार की महिलाएं खेती बाड़ी करती हैं और घर चलाने में योगदान देती हैं परिवार की मुक्या जियोना चाना और उनकी सबसे बड़ी पत्नी सभी सदस्यों के कार्यों का बंटवारा करने के साथ ही कामकाज पर नज़र भी रखती हैं|

इन्हें भी पढ़ सकते हैं

त्रिजुगी नारायण मंदिर | world oldest religious Temple

dal dhokli recipe | दाल ढोकली रेसिपी

 

वीडियो भी देखें 

उत्तराखंड पहाड़ों में कैसे रहते हैं Documentary film PART-4