Shradh 2022 10 सितंबर से शुरू, जानें श्राद्ध की सभी तिथियां

Shradh 2022 10 सितंबर से शुरू हो रहे हैं पितृ पक्ष का हिंदू धर्म में बहुत अधिक महत्व होता है।पितृ पक्ष को श्राद्ध पक्ष को श्राद्ध पक्ष भी कहते हैं| अश्विनी मास में 15 दिन श्राद्ध के लिए माने गए हैं। पूर्णिमा से लेकर अमावस्या तक का समय पितरों को याद करने के लिए मनाया गया है। सबसे पहला श्राद्ध पूर्णिमा से शुरू होता है। इस दिन पहला श्राद्ध कहा जाता है,

जिन पितरों का देहांत पूर्णिमा के दिन हुआ हो, उनका श्राद्ध पूर्णिमा तिथि के दिन किया जाता है। इन 15 दिनों में सभी अपने पितरों का उनकी निश्चित तिथि पर तर्पण, श्राद्ध करते हैं। ऐसा करने से पितृ प्रसन्न होते हैं और आशीर्वाद देकर प्रस्थान करते हैं। अमावस्या के दिन पितरों को विदा दी जाती है। 11 सितम्बर को सूर्योदय के साथ हो आश्विन कृष्ण पक्ष प्रतिपदा तिथि लग रही है अत: पितृ पक्ष का आरम्भ 11 सितम्बर को हो जाएगा।

इन्हें भी पढ़ें

पितर कौन होते हैं और तर्पण किन को दिया जाता, जाने

अगर देहांत की तारीख नहीं है मालूम,तो अपनाएं श्राद्ध के लिए ये तिथि

Shradh 2022 जानें कब है प्रतिपदा और द्वितीया का श्राद्ध

परंतु पूर्णिमा का श्राद्ध कर्म भाद्र पद शुक्ल पक्ष पूर्णिमा को ही किया जाता है जो 10 सितंबर दिन शनिवार को ही है। इसलिए महालय का आरम्भ 10 सितंबर शनिवार से ही हो जाएगा। जिस तिथि में पितर देव दिवंगत हुए होते है उसी तिथि पर पितृपक्ष में तिथियों के अनुसार श्राद्ध कर्म एवं तर्पण किया जाना शास्त्र सम्मत है। संतान की दीर्घायु एवं कुशलता की कामना से किया जाने वाला परम पुनीत जियुतिया ( जियुतपुत्रिका ) का व्रत पूजन अष्टमी श्राद्ध के दिन किया जाता है, इसलिए जितिया का व्रत रविवार 18 सितंबर 2022 को रखा जाएगा और इसका पारण सोमवार 19 सितंबर 2022 को किया जाएगा. जबकि सोमवार 19 सितंबर की सुबह 6.10 पर सूर्योदय के बाद माताएं व्रत का पारण कर सकती है इस प्रकार 11 सितम्बर से शुरू हो रहे पितृ पक्ष, 25 सितंबर को समाप्त होंगे।

इन्हें भी पढ़ें

 moongphali khane ke fayde | Amazing benefits of peanuts

लौंग के फायदे in Hindi | 14 Benefits Of Cloves

झटपट 5 मिनट में दही चटनी रेसिपी

नारियल की पूजा क्यों की जाती

आपके किचन में पाचन के लिए ये हैं ये 3 सुपरफूड, डाइट में जरूर करें शामिल रहें हेल्दी

Shradh 2022 पितृ पक्ष में श्राद्ध की तिथियां-

पूर्णिमा का श्राद्ध एवं तर्पण 10 सितंबर 2022 दिन शनिवार सुबह से 15: 29 तक उसके उपरांत प्रतिपदा
प्रतिपदा का श्राद्ध एवं तर्पण 11 सितंबर 2022 दिन रविवार सुबह से 13:16 तक उसके उपरांत द्वितीय श्राद्ध
द्वितीया का श्राद्ध एवं तर्पण12 सितम्बर 2022 दिन सोमवार 11:37 तक उसके उपरांत तृतीय श्राद्ध
तृतीया का श्राद्ध एवं तर्पण 13 सितंबर 2022 दिन मंगलवार 10:38 तक उसके उपरांत चतुर्थ श्राद्ध
चतुर्थी का श्राद्ध एवं तर्पण 14 सितंबर 2022 दिन बुधवार 10:25 तक उसके उपरांत पंचमी श्राद्ध
पंचमी का श्राद्ध एवं तर्पण 15 सितंबर 2022 दिन गुरुवार 10:59 तक उसके उपरांत षष्ठी श्राद्ध
षष्ठी का श्राद्ध एवं तर्पण 16 सितंबर 2022 दिन शुक्रवार 12:16 तक उसके उपरांत सप्तमी श्राद्ध
सप्तमी का श्राद्ध एवं तर्पण 17 सितंबर 2022 दिन शनिवार 14:10 तक उसके उपरांत अष्टमी श्राद्ध
अष्टमी का श्राद्ध एवं तर्पण 18 सितंबर 2022 दिन रविवार 16:30 तक
नवमी का श्राद्ध एवं तर्पण 19 सितंबर 2022 दिन सोमवार सुबह से 19:1 तक
दशमी का श्राद्ध एवं तर्पण 20 सितंबर 2022 दिन मंगलवार सुबह से 21:28 तक
एकादशी का श्राद्ध तर्पण 21 सितंबर 2022 दिन बुधवार सुबह से 23:38 तक
द्वादशी का श्राद्ध एवं तर्पण 22 सितंबर 2022 दिन गुरुवार सुबह से 25:20 तक
त्रयोदशी का श्राद्ध एवं तर्पण 23 सितंबर 2022 दिन शुक्रवार सुबह से 26:31 तक
चतुर्दशी का श्राद्ध एवं तर्पण 24 सितंबर 2022 दिन शनिवार सुबह से 27:11 तक
अमावस्या का श्राद्ध एवं तर्पण पितृ विसर्जन 25 सितंबर 2022 दिन रविवार सुबह से पूरे दिन तक

https://livecultureofindia.com/

आचार्य पंकज पुरोहित Ph-9868426723

Documentary film

पहाड़ी रीति रिवाज Documentary Film on Traditional Culture, गांव में दादाजी की बरसी, PART-1

उत्तराखंड में दिवाली कैसे मनाते हैं | Uttarakhand village Documentary PART-1