आश्विन नवरात्री 2020 अपनी राशिनुसार घर में लायें शुभ ग्रंथ

आश्विन नवरात्रि 2020

आश्विन नवरात्रि 2020 अक्टूबर 17,  शनिवार को मा दुर्गा नवरात्रि के 9 दिन और रात में समृद्धि प्राप्ति के लिए अपनी राशिनुसार करें इन पवित्र ग्रंथों का सात्त्विक मन से पाठ जिससे घर में आएगी समृद्धि और लक्ष्मी। चलिए जानते है राशि के अनुसार इन 9 दिनों में किस ग्रन्थ का करें पाठ:-

 https://livecultureofindia.com/आश्विन-नवरात्रि-2020/

आश्विन नवरात्रि 2020 : जानिए अपनी राशिनुसार कौन से शुभ ग्रंथ से घर में आएगी समृद्धि और शांति:-

मेष- मेष राशि वाले आश्विन नवरात्रि 2020 में प्रात:काल भगवान शिव के रुद्राष्टक के ग्यारह पाठ करें।

वृषभ- वृषभ राशि वाले प्रात:काल दुर्गा सप्तशती के देवी-कवच का पाठ पूर्ण श्रद्धा भाव से करें। इस से मां दुर्गा आप पर प्रसन्न होंगी।

मिथुन- मिथुन राशि वाले प्रात:काल भगवान गणेश के अथर्वशीर्ष का पाठ करें। इस से भगवान गणपति की कृपा प्राप्त करेंगें।

https://livecultureofindia.com/आश्विन-नवरात्रि-2020/

कृपया हमारा यह ब्लॉग और वीडियो भी देखें

दीपक जलाने के सही नियम

नारियल की पूजा क्यों की जाती

शक्तिपीठ कालीमठ मंदिर उत्तराखंड documentary film

कर्क- कर्क राशि वाले मां गौरी-जी की आराधना करें। गौरी मंदिर में जा कर उन्हें सुहाग का सामान अर्पित करें।

सिंह- सिंह राशि वाले भगवान सूर्य को प्रसन्न करने के लिए आदित्य-ह्रदय-स्तोत्र के कम से कम ग्यारह पाठ करें।

कन्या- कन्या राशि वाले गायत्री-मंत्र जाप करें।जिस से उनकी वाणी और शुद्ध होगी।

तुला- तुला राशि वाले लक्ष्मी मां को प्रसन्न करने के लिए श्री-सूक्त का पाठ करें।

वृश्चिक- वृश्चिक राशि वाले मंगला-स्तोत्र का पाठ करें। जिस से उनके जीवन में सब मंगल हो।

धनु- धनु राशि वाले भगवान विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें।

मकर- मकर राशि वाले संकटमोचन के ग्यारह पाठ नौ दिन करें।

कुंभ- आश्विन नवरात्रि 2020 में कुंभ राशि वाले रामायण के सुंदरकांड का पाठ करें।

मीन- आश्विन नवरात्रि 2020 में मीन राशि वाले राम-रक्षास्तो‍त्र का पाठ करें।

विशेष- आश्विन नवरात्रि 2020 में उपरोक्त पाठ शुद्ध मन और शुद्ध भाव से करें। जिस से इस नवरात्रि में मां दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त हो। इति श्री।

धार्मिक कार्य पूजा पाठ,अनुष्ठान, कुंडली मिलान हेतु के लिए शास्त्री जी से व्हाट्सएप नंबर 9781296384 संपर्क करें 

http://livecultureofindia
 शास्त्री विनीत शर्मा,एम. फिल