सूर्य ग्रहण Solar Eclipse 21 जून 2020 किन किन राशियों पर पड़ेगा ग्रहण काअसर

सूर्य ग्रहण Solar Eclipse

सबसे बड़ा सूर्य ग्रहण 21 जून 2020 को लगने वाला सूर्य ग्रहण होगा बेहद संवेदनशील ग्रहों के वक्री होने से प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ सकता है। जैसे अत्याधिक वर्षा, समुद्री चक्रवात, तूफान, करोना जैंसी महामारी, आदि। शनि, मंगल और गुरु के प्रभाव से विश्व में आर्थिक मंदी का असर एक वर्ष तक बना रहेगा।

सूर्य ग्रहण 21 जून 2020 का समय

इस सूर्य ग्रहण की अवधि- 5 घंटे 48 मिनट 03 सेकंड रहेगी
पृथ्वी पर इस कंकण सूर्यग्रहण का समय
ग्रहण प्रारंभ – सुबह 9 बजकर 15 मिनट 58 सेकंड
कंकण प्रारंभ- सुबह 10 बजकर 17 मिनट 45 सेकंड
परमग्रास (मध्य)- 12 बजकर 10 मिनट 04 सेकंड
कंकण समाप्त– दोपहर 2 बजकर 2 मिनट 17 सेकंड
ग्रहण समाप्त- दोपहर 3 बजकर 4 मिनट 01 सेकंड

सूर्य ग्रहण भारत के अलावा कहां-कहां दिखेगा
21 जून 2020 को सूर्य ग्रहण लगेगा जो वलयाकार होगा।
सूर्य ग्रहण 2020: भारत समेत दक्षिण-पूर्व यूरोप, हिन्द महासागर, प्रशांत महासागर, अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका में देखा जा सकेगा।
21 जून को लगने जा रहे सूर्य ग्रहण के समय मंगल जलीय राशि मीन में स्थित होकर सूर्य, बुध, चंद्रमा और राहु को देखेंगे जिससे अशुभ स्थिति का निर्माण होगा। इसके अलावा शनि, गुरु, शुक्र, बुध, राहु, केतु वक्री अवस्था में होंगे। इसे भी अशुभ माना जा रहा है। ग्रहण के समय इन बड़े ग्रहों के वक्री होने से प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ सकता है। जैसे अत्याधिक वर्षा, समुद्री चक्रवात, तूफान, करोना महामारी,आदि। शनि, मंगल और गुरु के प्रभाव से विश्व में आर्थिक मंदी का असर एक वर्ष तक बना रहेगा।

सूर्य ग्रहण Solar Eclipse का राशियों पर प्रभाव

https://livecultureofindia.com/सूर्य-ग्रहण-राशियों-पर-अस/ ‎
सूर्य ग्रहण

21 जून 2020 को पड़ने वाला सूर्य ग्रहण साल का सबसे बड़ा ग्रहण है|
और इसका हर राशि पर अलग-अलग प्रभाव पड़ेगा. आइए हम आपको बताते हैं कि इस सूर्य ग्रहण का किस राशि पर क्या असर होने वाला है.

आप इन्हें भी पढ़ सकते हैं और वीडियो भी देख सकते हैं

कंकणाकृति सूर्यग्रहण 21-6-2020 पूरी जानकारी अवश्य पढ़ें

नारियल की पूजा क्यों की जाती और पोराणिक कथा क्या है जाने,

बाबा तुंग नाथ यात्रा की विडियो देखें

1 मेष राशि।

इस माह का आरंभ साहस एवं पराक्रम की वृद्धि के साथ होगा। आकस्मिक धन प्राप्ति के योग, रुका हुआ धन भी आएगा। विद्यार्थियों के लिए माह अपेक्षाकृत और बेहतर रहेगा इसलिए परीक्षा अथवा प्रतियोगिता में बैठने के लिए पढ़ाई में पूरी ऊर्जा लगा दें। दैनिक व्यापारियों के लिए भी आय से संबंधित परेशानियां दूर होंगे। नौकरी में स्थान परिवर्तन का प्रयास कर रहे हों तो परिणाम सार्थक रहेगा। 13,17 तारीखें अशुभ रहेंगी।
धन के रास्ते खुलेंगे, लाभ होगा करोना महामारी से बचने के उपाय करें मंगल ग्रह की पूजा करें

2 वृष राशि-

सफलता की दृष्टि से माह बेहतरीन रहेगा। ग्रह गोचर की अनुकूलता कार्य व्यापार में उन्नति के संकेत दे रही है किंतु स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। दाहिनी आंख से संबंधित समस्या से सावधान रहें। स्वदेशी कंपनियों में सर्विस के लिए आवेदन करना उत्तम रहेगा। धर्म-कर्म के मामलों में भी बढ़ चढ़कर हिस्सा लेंगे। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। संतान संबंधी चिंता से भी मुक्ति मिलेगी। 11,19 तारीखें अशुभ रहेंगी
धन की हानि, पैसे से संबंधित चिंता उत्पन्न होगी शुक्र ग्रह की पूजा करें

3 मिथुन राशि-

आरंभिक ग्रह-गोचर कुछ पारिवारिक कलह एवं मानसिक अशांति ला सकते हैं किंतु, कामयाबी की दृष्टि से ये माह आपके लिए चिंता जनक रहेगा। आपके द्वारा लिए गए निर्णय और किए गए कार्यों की सराहना होगी। शत्रु परास्त होंगे फिर भी कोर्ट कचहरी के मामले बाहर ही सुलझा लें तो बेहतर रहेगा। दांपत्य जीवन में मधुरता आएगी। शादी विवाह से संबंधित वार्ता भी सफल रहेगी। 21, 28 तारीखें अशुभ हैं।
दुर्घटना, चोट, भय, चिंता, कलह में वृद्धि हो सकती है अपना ध्यान स्वयं रखें।

4 कर्क राशि-

माह मिलाजुला फलदायक सिद्ध होगा। आरंभ में कार्य व्यापार में उन्नति होगी। विदेशी कंपनियों में सर्विस से हेतु आवेदन करना चाहें अथवा विदेशी नागरिकता के लिए वीजा आदि का आवेदन करना चाहें तो योग उत्तम है। तीसरे सप्ताह से ग्रह गोचर में आए परिवर्तन के प्रभाव स्वरूप उतार-चढ़ाव अधिक रहेगा। स्वास्थ्य पर भी विपरीत प्रभाव पड़ेगा। कष्टकर यात्रा भी करनी पड़ सकती है। 21, 22 तारीखें अशुभ रहेंगी।
शारीरिक पीड़ा हो सकती है, वाहन से बचें।

5 सिंह राशि-

संपूर्ण माह आपके लिए बेहतरीन सफलता दिलाने वाला सिद्ध होगा। कोई भी बड़े से बड़ा कार्य आरंभ करना चाहें अथवा निर्णय लेना चाहें तो विलंब न करें, सफलता की संभावना सर्वाधिक रहेगी। शासन सत्ता का पूर्ण उपयोग करें उच्चाधिकारियों से मधुर संबंध बनाए रखें। तीसरे सप्ताह से ग्रह गोचर में और सुधार आने के फलस्वरूप सभी सोची समझी रणनीति कारगर सिद्ध होगी। 14, 15 तारीखें अशुभ रहेंगी।
चिंता से राहत मिलेगी, नया कार्य मिलेगा सूर्य ग्रह की पूजा करें।

6 कन्या राशि-

माह के ग्रह गोचर आपके लिए अच्छी सफलता दिलाने वाले सिद्ध होंगे। आरंभ में उच्चाधिकारियों से मधुर संबंध बढ़ेगा और बड़े से बड़ा कार्य करवाने में सफल रहेंगे। विद्यार्थी वर्ग को शिक्षा प्रतियोगिता में अच्छी सफलता के योग। कार्य व्यापार में उन्नति के साथ-साथ संतान संबंधी चिंता से मुक्ति मिलेगी। नव दंपति के लिए संतान प्राप्ति एवं प्रादुर्भाव के भी योग। प्रेम विवाह की रुकावटें दूर होंगी। 15 ,20 तारीखें अशुभ।
रोग बढ़ सकते हैं, कष्ट बढ़ेंगे और अपने परिवार वालों से जुड़े रहें बुध ग्रह की पूजा करें।

7 तुला राशि-

अच्छी सफलता दिलाने वाला सिद्ध होगा। साहस पराक्रम की भी वृद्धि होगी। आपके लिए गए निर्णय एवं किए गए कार्यों की सराहना भी होगी। जमीन जायदाद से जुड़े हुए मामलों का निपटारा होगा फिर भी कोर्ट कचहरी के मामले बाहर ही सुलझा लें तो बेहतर रहेगा।y अपनी ऊर्जा शक्ति के बलपर विषम हालात को भी सामान्य कर लेंगे। धर्म-कर्म के मामलों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेंगे। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। 19, 20 तारीखें अशुभ।
संतान को कष्ट होगा, चिंता उत्पन्न होगी शुक्र ग्रह की पूजा करें।

8 वृश्चिक राशि-

आपके लिए मिलाजुला फल कारक सिद्ध होगा, कुछ पारिवारिक कलह के कारण मानसिक अशांति बढ़ सकती है इसलिए स्वास्थ्य के प्रति चिंतनशील रहे कार्य क्षेत्र में भी झगड़े विवाद से बचें। उच्चाधिकारियों से मधुर संबंध बनाकर रखें। शादी विवाह संबंधित वार्ता सफल रहेगी। दैनिक व्यापारियों के लिए माह अपेक्षाकृत उत्तम रहेगा। आप को नीचा दिखाने वाले लोग आपकी मदद करने के लिए आगे आएंगे। 21, 22 तारीखें अशुभ।
शत्रु बढ़ सकते हैं, बहस से बचें, धन लाभ होगा मंगल ग्रह की पूजा करें।

9 धनु राशि-

इस माह में ऊर्जा से ओतप्रोत रहेगा। कोई भी बड़े से बड़ा कार्य आरंभ करने अथवा निर्णय लेने में हिचकिचाहट न दिखाएं। सफलता की संभावना सर्वाधिक रहेगी। दैनिक व्यापारियों के लिए माह किसी वरदान से कम नहीं है। शादी विवाह संबंधित वार्ता सफल भी रहेगी। ससुराल पक्ष से रिश्ते बिगड़ने न दें। सरकार के प्रतिष्ठानों में सर्विस हेतु आवेदन करना हो अथवा स्थान परिवर्तन चाहते हों तो प्रयास करें। 18,19 तारीखें अशुभ।
जीवनसाथी को कष्ट हो सकता है, मानसिक चिंता बढ़ेगी गुरु ग्रह की पूजा करें।

10 मकर राशि-

संपूर्ण माह आपके लिए अच्छी सफलता दिलाने वाला सिद्ध होगा। ग्रह गोचर में आया परिवर्तन कार्य-व्यापार में उन्नति और शिक्षा प्रतियोगिता में सफलता दिलाएगा। आपके द्वारा लिए गए निर्णय की सराहना होगी। यात्रा देशाटन का लाभ मिलेगा स्वदेशी नागरिकता के लिए आवेदन करना भी शुभ रहेगा। शादी विवाह से संबंधित वार्ता सफल रहेगी। अपने साहस के बल पर विषम हालात को भी सामान्य कर लेंगे। 25, 26 तारीखें अशुभ।
गुप्त चिंता उभरेगी, शत्रु काम में बाधा डाल सकते हैं शनि ग्रह की पूजा करें।

11 कुंभ राशि-

इस माह का आरंभ कुछ पारिवारिक कलह का सामना करवा सकता है अतः इसे ग्रहयोग समझकर बढ़ने न दें। माता-पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। मकान वाहन के भी क्रय का योग बना हुआ है। अपनी जिद एवं आवेश पर नियंत्रण रखते हुए कार्य करेंगे तो सफलता की संभावना सर्वाधिक रहेगी। रोजगार की दिशा में किए गए प्रयास सार्थक होंगे नए अनुबंध पर हस्ताक्षर करने के योग। प्रेम संबंधों में विवाद से बचें। 23, 24 तारीखें अशुभ।
अधिक खर्च होगा, कार्य में परेशानी हो सकती है स्वयं पर नियंत्रण रखें काली वस्तुओं का दान करें।

12 मीन राशि-

आपके लिए यह माह आरंभ से लेकर अंत तक अच्छी सफलता लाएगा। इसलिए अपने सामर्थ्य का भरपूर उपयोग करते हुए कार्य व्यापार में पूरा ध्यान लगाएंगे तो सफलता की संभावना सर्वाधिक रहेगी। प्रतियोगिता में अच्छी सफलता एवं संतान के दायित्व की पूर्ति होगी। नव दंपत्ति के लिए संतान प्राप्ति एवं प्रादुर्भाव के योग बने हुए हैं। तीसरे सप्ताह से ग्रह गोचर की अनुकूलता में कुछ कमी आ सकती है अतः सावधान रहें। 19, 20 तारीखें अशुभ।
कार्य बढ़ेंगे, धन वृद्धि होगी, नए मकान के योग हैं गुरु ग्रह की पूजा करें पीली वस्तुओं का दान करें।

उपाय
इसके लिए कांसे की कटोरी में घी भरकर उसमें चांदी का सिक्का डालकर अपना मुंह देखकर छायापात्र मंत्र पढ़ें. ग्रहण समाप्ति पर वस्त्र, फल, दक्षिणा दान करें.

ज्योतिषियों के अनुसार सूर्य ग्रहण काल में क्या करें क्या न करें

जब ग्रहण प्रारंभ हो रहा हो, उस समय से पहले ही स्नान, जप, संकल्प आदि कर लें. मध्यकाल में होम, देव पूजा, पाठ, ग्रहण मोक्ष समीप होने पर दान तथा पूर्ण मोक्ष होने पर पुनः स्नान करना चाहिए इस पूजा पाठ के प्रभाव से करोना महामारी का प्रभाव आप पर कम पड़ेगा।
पका हुआ अन्न, कटी हुई सब्ज़ियां आदि ग्रहण काल में दूषित हो जाते हैं इसलिए ग्रहण काल शुरू होने से पहले ही इनका प्रयोग कर लें. तेल, घी, मक्खन, लस्सी, पनीर, अचार, चटनी, मुरब्बा में कुशा रखने से ये ग्रहण काल में दूषित नहीं होते हैं।

सूर्य ग्रहण काल में गर्भवती महिलाएं क्या करें – क्या न करें

गर्भवती महिलाएं ग्रहण काल में सब्जी न काटें, पापड़ न सेंकें, गुस्से से बचना चाहिए. गर्भवती महिलाएं ग्रहण काल में सोएं नहीं. गर्भवती महिलाओं के अलावा वृद्ध, रोगी, बच्चे भोजन या दवाई का सेवन कर सकते हैं|

 https://livecultureofindia.com/सूर्य-ग्रहण-राशियों-पर-अस/