अपने घर के मंदिर में पूजा और ध्यान रखने वाली जरूरी बातें

अपने घर के मंदिर में पूजा

अपने घर के मंदिर में पूजा  या देवी-देवताओं के सच्चे मन से मंदिर में पूजा  करने से दुख-दर्द तो दूर होते ही हैं, इसके साथ ही मानसिक और शारीरिक शांति भी मिलती है।

इसी कारण प्राचीन समय से ही पूजन की परंपरा चली आ रही है जो अब तक चल रही है। जिनके घरों में हर रोज पूजा की होती है, उस घर का वातावरण सकारात्मक एवं पवित्र रहता है।

https://livecultureofindia.com/अपने-घर-के-मंदिर-में-पूजा/
कभी भी दरिद्रता पास नहीं आती। दीपक और धूप,अगरबत्ती ( ध्यान रहें बॉस की लकड़ी की न बनी हो )के शुद्ध सुंगध और धुएं से स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने वाले सूक्ष्म कीटाणु और जीवाणु भी मर जाते हैं। शास्त्रों में बताए अनुसार पूजन के लिए कई आवश्यक तथा मुख्य नियम बताए गए हैं।

इन नियमों का पालन करते हुए पूजा करने वालों को श्रेष्ठ फल प्राप्त होते हैं। मां महालक्ष्मी सहित सभी देवी-देवताओं की कृपा बनी रहती है।

अपने घर के मंदिर में पूजा महत्वपूर्ण 20 नियम

घर के मंदिर में पूजा, करते समय हमें हमेशा  इन 20 बातों का ध्यान रखने चाहिए।

1-पूजन स्थल को पवित्र माना जाता है इसकी पवित्रता का विशेष ध्यान रखें। पूजन स्थल या मंदिर के आसपास कभी भी चप्पल पहनकर नहीं जाना चाहिए। साथ ही अपने पास चमड़े की बेल्ट या पर्स रखकर पूजा न करें।

2- पूजन में पान के पत्तों का भी विशेष महत्व माना गया है।पान के पत्ते के साथ इलाइची, लौंग, गुलकंद आदि भी चढ़ाना शुभ माना गया है|  कभी भी अकेला पान का पत्ता कभी भी अर्पण नहीं करना चाहिए। पूरा बना हुआ पान भी चढ़ाएंगे तो वह श्रेष्ठ रहेगा।

3- इसके बाद पूजा में इस बात का विशेष ध्यान रखें कि पूजा में जो दीपक जला रखा है वह पूजा के बीच में बुझना नहीं चाहिए। ऐसा होने पर पूजा का संपूर्ण फल की प्राप्ति नहीं होती है। इसे अशुभ भी माना जाता है

https://livecultureofindia.com/अपने-घर-के-मंदिर-में-पूजा/

4- जब हम पूजन करना आरम्भ करते है तो सबसे पहले भगवान के पूजन में उनका आवाहन (अर्थात भगवान को आमंत्रित करना) करना चाहिए,उसके बाद उनका ध्यान करना, तत्पश्चात भगवान को आसन समर्पित करना,

फिर भगवान को स्नान करवाना चाहिए, फिर धूप दीप भगवान को दिखाना,अक्षत (चावल), कुमकुम, चंदन, पुष्प (फूल), प्रसाद आदि अनिवार्य रूप से होने चाहिए।

आप इन्हें भी पढ़ सकते हैं और हमारी वीडियो भी देख सकते हैं

श्राद्ध पक्ष 2021: महत्व नियम जानें, किस दिन कौन सा श्राद्ध है

Deepawali 2021-दिवाली में लक्ष्मी पूजा शुभ मुहूर्त जानें

Gujiya Recipe sweet dish of Indian festivals | गुजिया रेसिपी

झटपट 5 मिनट में दही चटनी रेसिपी | tasty curd chutney recipe

दीपावली पूजन में 10 बातों का रखें ध्यान घर में होगी महालक्ष्मी की कृपा

कुंडली में सूर्य का प्रभाव बारह भावों में जानें

Kali mata mandir Royal city Patiala Punjab

बाबा तुंगनाथ की यात्रा वीडियो

5- जब भी देवी-देवताओं को हार-फूल, पत्तियां आदि अर्पित करें तो सबसे पहले उनको एक बार साफ पानी से अवश्य धो लेना चाहिए।

6- भगवान विष्णु को पीली चीज पसंद होती है इसलिए भगवान विष्णु को पीला कपड़ा चढ़ाने से भगवान विष्णु प्रसन्न हो जाते हैं दुर्गा माता , सूर्यभगवान तथा गणेश जी को गणेश जी को लाल वस्तु या लाल वस्त्र चढ़ाने ये चढ़ाने से प्रसन्न होते हैं और भगवान शिव को सफेद वस्त्र अर्पित करने से प्रसन्न होते हैं

7- जब हम किसी भी प्रकार का पूजन करें तो सबसे पहले हमें अपने कुल देवता, कुल देवी, घर के वास्तु देवता, ग्राम देवता आदि का ध्यान और इन सभी की पूजा करनी चाहिए।
8- पूजन में विशेष ध्यान देने योग्य बात पूजा के दौरान जब पूजा के जिस आसन में आप बैठने जाते हैं इस आसन को पैरों से इधर उधर नहीं खिसकाना चाहिए। बल्कि उसे हाथों से इधर उधर रखें,

9- घर में घी का दीपक जलाने से कई प्रकार के वास्तु दोष दूर हो जाते हैं   घर में कोशिश करें घीं का ही दीपक जलाएं

10-पूजा में पंच देवताओं का ध्यान जरूर करना चाहिए पंच देवताओं में सूर्य, गणेश, दुर्गा, शिव और विष्णु, इन को पंचदेव कहा जाता है, इनकी पूजा सभी कार्यों में अनिवार्य मानी गई है । इन पंचदेव का ध्यान प्रतिदिन पूजन करते समय करना चाहिए। इस से घर में समृद्धि और लक्ष्मी जी की कृपा प्राप्त होती है

11- तुलसी के पत्ते को पवित्र माना गया है आप इन्हें रख कर 11 दिन तक भगवान को चढ़ा सकते हैं इनमें पानी छिडके और प्रत्येक दिन भगवान को चढ़ाए

12- दीपक जलाते समय ध्यान रखें दीपक भगवान की जो प्रतिमा आपने रखी है उसके सामने दीपक जलना चाहिए लोग कई बार प्रतिमा के इधर-उधर दीपक रख लेते हैं जो सही नहीं माना गया

13- दीपक जलाते समय इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि जब आप घी का दीपक जलाते हैं तो उसमें सफेद रूई की बत्ती होनी चाहिए और जब आप तेल का दीपक जलाते हैं तो उसमें लाल धागे की बत्ती होनी चाहिए इन बत्ती को श्रेष्ठ माना गया है।

14- पूजा में कोई भी खंडित (दीपक टूटा हुआ) चीज को शुभ नहीं माना जाता है

15- शिवजी को बिल्व पत्र बहुत प्रिय है इन्हें जरूर चढ़ाएं और किसी भी पूजा में मनोकामना की सफलता के लिए अपनी इच्छा के अनुसार भगवान को दक्षिणा अवश्य चढ़ानी चाहिए, दान करना चाहिए। जब भी दक्षिणा किसी को दे अपने दोषों को छोड़ने का संकल्प भी लेना चाहिए। ऐसा करने से मनोकामना पूर्ण होती है

16-परिक्रमा के विषय में भगवान सूर्य की 7, श्रीगणेश की 3, विष्णुजी की 4 और शिवजी की आधी परिक्रमा करनी चाहिए।

17- आप जब भी घर में हो या मंदिर में हो कोई भी विशेष पूजा कराएं तो वहां परअपने कुल के देवता , इष्टदेवता के साथ ही स्वस्तिक का चिन्ह, कलश, नवग्रह देवता की चोंकी का, पंच लोकपाल, षोडश मातृका, सप्त मातृका का पूजन भी जरुर करना चाहिए।

18- घर में जिस जगह पर आप पूजन करते हैं जिस जगह पर आप पूजा करते हैं उस जगह के ऊपर भी सफाई का विशेष ध्यान रखें कोई अनावश्यक वस्तु पूजन स्थल के ऊपर से ना हो
19- भगवान शिव को हल्दी नहीं चढ़ाना चाहिए और न ही शंख से जल चढ़ाना चाहिए। इन बातों का विशेष ध्यान रखें।

20- किसी भी प्रकार की पूजा में विशेष रूप से अक्षत (चावल) चढ़ाए जाते हैं। पूजन के लिए ऐसे चावलों का उपयोग करना चाहिए जो अखंडित (अर्थात पूरे चावल) हो, टूटे हुए ना हो। इन चावलों को चढ़ाने से पहले हल्दी से पीला करना बहुत शुभ माना गया है।

हल्दी को सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है।इस लिए थोड़े से पानी में हल्दी घोल लें और उस घुली हुई हल्दी में चावल को डूबोकर पीला किया जा सकता है।

धार्मिक कार्य पूजा पाठ,अनुष्ठान, कुंडली मिलान हेतु के लिए शास्त्री जी से व्हाट्सएप नंबर 9781296384 संपर्क करें 

http://livecultureofindia
 शास्त्री विनीत शर्मा,एम. फिल

 

Leave a Reply