दीपक जलाने के सही नियम जानिए,भगवान होंगे प्रसन्न

दीपक जलाने नियम-

दीपक को ,ज्योति अग्नि और उजाले का प्रतीक भी माना जाता है|ईश्वर को प्रकाश पुंज कहा जाता हैं, इसी लिए दीपक को हिन्दू धर्म में किसी भी शुभ कार्य, पूजा के समय, मंदिर में या फिर घर आंगन में हर कोई देवी देवताओं के सम्मुख उनके तत्व के आधार पर दीपक जलाते ही हैं । अगर आप भी अपने ईष्ट को प्रसन्न करना चाहते है

तो जाने कौन सा और कितनी बत्ती वाला दीपक जलाने से ईश्वर प्रसन्न होकर कृपा बरसाते हैं ।दीपक की लौ पूर्व दिशा की ओर रखने से आयु में वृद्धि होती है।

https://livecultureofindia.com/दीपक-जलाने-के-सही-नियम/ इन्हें भी जाने

ध्यान रहे कि दीपक की लौ पश्चिम दिशा की ओर रखने से दुख बढ़ता है।
दीपक की लौ उत्तर दिशा की ओर रखने से धन लाभ होता है।
दीपक की लौ कभी भी दक्षिण दिशा की ओर न रखें, ऐसा करने से जन या धनहानि होती है।

इन देवताओं को इतनी बत्ती वाला दीपक जलाएं

1- माँ दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए आप तिल के तेल का दीपक को जलाना आति उत्तम माना गया है ।
2- आपने ईष्ट देवताओं को प्रसन्न करने के लिए हमेशा गाय के घी का दीपक ही जलाना चाहिए ।
3- जब किसी शत्रु का शमना करने के लिए साधना करे तो उस समय सरसों एवं चमेली के तेल का दीपक जलाने से कार्य पूर्ण हो जाते है ।
4- सूर्य नारायण भगवान की पूजा में 7 बत्तियों वाले दीपक को जलाने का विशेष महत्व है ।
5- माता भगवती दुर्गा की पूजा में को 9 बत्तियों वाला दीपक सर्वोत्तम माना गया है ।
6- हनुमानजी एवं शंकरजी कि प्रसन्नता के लिए इनकी पूजा में पांच बत्तियों वाला दीपक जलाने का विधान है । इससे इन देवताओं की कृपा शीघ्र प्राप्त हो जाती है ।

7- दीपक जलाते समय उसके नीचे सप्तधान्य (सात अनाज) रखने से सब प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है ।
8- यदि दीपक जलाते समय उसके नीचे गेहूं रखें तो धन धान्य की वृद्धि होती है ।
9- यदि दीपक को पूजा के स्थान पर चावलों के ऊपर रखा जाए तो महालक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और वहां महालक्ष्मी का वास होता है ।

10- यदि दीपक को काले तिल या उड़द के उपर जलाकर रखते हिन् तो  तो माँ काली, माँ भैरवी, शनि, दस, दिक्पाल, क्षेत्रपाल हमारी रक्षा करते हैं ।
11- जलते दीपक के अंदर अगर गुलाब की पंखुड़ी या लौंग रखें, तो जीवन अनेक प्रकार की सुगंधियों से भर उठेगा ।इसलिए कहा जाता है कि दीपक के नीचे किसी न किसी अनाज को अवश्य रखना ही चाहिए ।

आप इन्हें भी पढ़ सकते हैं और हमारी वीडियो भी देख सकते हैं

अपने घर के मंदिर में पूजा और ध्यान रखने वाली जरूरी बातें

नारियल की पूजा क्यों की जाती और पोराणिक कथा क्या है जाने,

Kali mata mandir Royal city Patiala Punjab

बाबा तुंगनाथ की यात्रा वीडियो

अनुष्ठानों में इन धातुओं के दीपक का महत्व

वैसे तो हर प्रकार की पूजाओं में मिट्टी के दीपकों का सबसे ज्यादा लाभ बताया गया है। लेकिन नवरात्रि या विभिन्न इच्छाओं की पूर्तियों के लिए किये जाने वाले अनुष्ठान में पांच दीपक प्रज्जवलित करने का बहुत महत्व है ।

 https://livecultureofindia.com/दीपक-जलाने-के-सही-नियम/

इनमें सोना, चांदी, कांसा, तांबा, लोहा आदि धातुओं का प्रयोग होता है । धन के आभाव में पांचों दीपक तांम्बे के भी हो सकते हैं । जीवन के लिए प्राणीमात्र को प्रकाश चाहिए, क्योंकि बिना प्रकाश के कोई भी कोई कार्य नहीं कर सकता ।

दीपक Deepak importance

धातु के दीपक और उनसे सफल होने वाली मनोकामना एंव कुण्डली में जो ग्रह कमजोर हो उस धातु का दीपक पूजा में इस्तेमाल करना चाहिए ।

सोने का दीपक

माना जाता है सोने के दीपक में भगवान सूर्य व गुरु का निवास होता है । सोने के दीपक को पूजा वेदी के मध्य भाग में गेहूं का आसन देकर चारों तरफ लाल कमल या गुलाब की पंखुड़ियां बिखेर कर स्थापित करें इसमें गाय का शुद्ध घी डालें तथा रूई की लंबी बत्ती लगाकर इसका मुख पूर्व दिशा की ओर रखें । इससे हर प्रकार की उन्नति तथा बुद्धि में निरंतर वृद्धि होती रहेगी ।

चांदी का दीपक

चांदी के दीपक में चन्द्र व शुक्र का वास होता है । चांदी के दीपक को चावलों का आसन देकर सफेद गुलाब या अन्य सफेद फूलों की पंखुड़ियों को चारों तरफ बिखेर कर पूर्व दिशा में स्थापित करें, इसमें गाय का शुद्ध देशी घी का ही प्रयोग करें । चांदी का दीपक जलाने से घर में सात्विक धन की वृद्धि होगी ।

तांबे का दीपक

तांम्बे के दीपक में मंगल का वास होता है । तांबे के दीपक को लाल मसूर की दाल का आसन देकर चारों तरफ लाल फूलों की पंखुड़ियों को बिखेर कर दक्षिण दिशा में स्थापित करें, इसमें तिल का तेल डालें और रूई की लंबी बत्ती जलाए । तांबे के दीपक में तिल का तेल डालने से मनोबल में वृद्धि होगी तथा अनिष्टों का नाश होगा ।

कांसे का दीपक

कांसे में बुध का वास होता हैं । कांसे के दीपक को चने की दाल का आसन देकर तथा चारों तरफ पीले फूलों की पंखुड़ियां बिखेर कर उत्तर दिशा में स्थापित करें, इसमें तिल का तेल डालें, कांसे का दीपक जलाने से धन की स्थिरता बनी रहती है अर्थात् जीवन भर पर्याप्त धन बना रहता है ।

लोहे का दीपक

लोहे के दीपक में शनि का वास होता है । लोहे के दीपक को उड़द की दाल का आसन देकर चारों तरफ कालें या गहरे नीले रंग के पुष्पों की पंखुड़ियां बिखेर कर पश्चिम दिशा में स्थापित करें,

इसमें सरसों का तेल डालें, लोहे के दीपक में सरसों के तेल की ज्योति जलाने से अनिष्ट तथा दुर्घटनाओं से बचाव हो जाता है।

sitename% » दीपक जलाने के सही नियम जानिए,भगवान होंगे प्रसन्न
शास्त्री विनीत शर्मा,एम. फिल व्हाट्सएप नंबर 9781296384 संपर्क करें 

 

Leave a Reply