महाऋषि अगुस्त्मुनी मंदिर रुद्रप्रयाग उत्तराखंड

   महाऋषि अगुस्त्मुनी मंदिर

हिन्दुस्तान की धरती का एक राज्य…जिसे लोग देवभूमि के नाम से जानते हैं…जी हां ये देवभूमि उत्तराखंड ही है…वहां बसा है एक सुंदर सहर अगस्त्यमुनि,  .अगस्त्यमुनि रुद्रप्रयाग जिले में बसा है | यहाँ से केदारनाथ मात्र 90 किलोमीटर की दूसरी पर इस्थित है.और समुद्र तल से 1 हजार मीटर की ऊंचाई पर बसा हुआ है
इतिहास के पन्नों में एक महान ऋषि हुआ करते थें..  .वो ऋषिमुनि जिन्होने कभी अपने तपोबल से जाने कितने लोगों का उद्धार किया था|ये कोई बड़ा सहर नहीं…एक नागेर पंचायत है…वो जगह जहां हकीकत और श्रद्धा की गंगा बहती है.कहते हैं कि ऋषि अगस्त्य ने ही अगस्त्यमुनि को बसाया था
ये जगह महर्षि अगस्त्य की तपस्थली है यहां स्थित उनका मंदिर और उनकी मूर्तियां आज भी विराजमान है।  मुख्य मन्दिर में अगस्त्यमुनि का कुण्ड एवं उनके शिष्य भोगाजीत की प्रतिमा है। साथ में महर्षि अगस्त्य के इष्टदेव अगस्त्येश्वर महादेव का मन्दिर है।
 https://livecultureofindia.com/महाऋषि-अगुस्त्मुनी-मंदिर/ ‎

माना जाता है की जब अगस्त ऋषि यहाँ पर तपस्या कर  रहे थे तो उस क्षेत्र में अगस्त्यमुनि से करीब 8 किलोमीटर दूर सिल्ला गांव में  जहाँ  भगवान शाणेश्वर मन्दिर  है | वहां आतापी तथा वातापी नामक दो दैत्य भाइयों ने अत्यंत आतंक फैला रखा था। वे रूप बदलकर ऋषियों को भोजन के बहाने बुलाते थे, एक भाई सूक्ष्मरूप धारणकर भोजन में छिपकर बैठ जाता था एवं दूसरा भोजन परोसता था।

भोजन सहित असुर को निगल लेने के बाद दूसरा उसे आवाज देता था तथा वह पेट फाड़कर बाहर आ जाता था तथा दोनों मिलकर ऋषि को मारकर खा जाते थे। सभी लोग इन राक्षसों से तंग आ चुके थे तथा उन्होंने महर्षि अगस्त्य से इन दोनों से छुटकारा दिलाने की प्रार्थना की।

मुनि जी इन राक्षसों के यहाँ भोजन करने गये, जब पहला राक्षस भोजन सहित पेट में चला गया तो मुनि जी ने मन्त्र पढ़कर उसे जठराग्नि से पेट में ही जला दिया (अगस्त्य मुनि पिछले जन्म में जठराग्नि रूप में थे)।

कृपया हमारा यह ब्लॉग और वीडियो भी देखें

चम्बा उत्तराखंड का खुबसूरत पर्यटक स्थल में से एक है

शरद पूर्णिमा मां लक्ष्मी किन घरों में आती और खीर का महत्व

गुरुद्वारा दुःखनिवारण साहिब जी पटियाला | Shri Dukh Niwaran Sahib Ji Patiala

पहाड़ों की महिलाएं कैसे काम करती-himalayan women lifestyle

Natural Protein Facial Peck for Dry Skin | नेचुरल फेस पेक

gaay ka ghee ke fayde | Amazing Ayurvedic benefits of cow ghee

झटपट 5 मिनट में दही चटनी रेसिपी | tasty curd chutney recipe

Baba Tungnath यात्रा की विडियो 

जब दूसरे राक्षस के पुकारने पर भी वह वापस न आया तो वह राक्षस अपने असली रूप में आकर मुनि जी से युद्ध करने लगा। यह युद्ध बहुत दिनों तक चला, राक्षस अत्यन्त बलवान था तथा मुनि जी थक गये। तब उन्होंने देवी का स्मरण किया,

देवी कूर्मासना (स्थानीय बोली में कुमास्योंण) रूप में प्रकट हुयी। जिस स्थान पर देवी प्रकट हुयी वहाँ वर्तमान में कूर्मासना मन्दिर है। देवी नें दैत्य का सिल्ला नामक स्थान पर वध किया, वहाँ पर वर्तमान में शाणेश्वर महादेव का मन्दिर है जिसमें राक्षसी कुण्ड बना है

महाऋषि अगुस्त्मुनी मंदिर की विडियो देखें